Friday, 20 March 2015

MERI MAAAAN

main 23 saal ka hu main delhi ka rehne wala hu meri height 5'8" hai or lund kareeban 7" ka hai. meri maa ka naam kusum hai umar 46 saal or body ka figure lagbhag 38-32-40 hoga vo ek bahut hi khoobsurat aurat hai rang ekdum gora kad 5 foot hai or uske chooche to kyaa bataun bas itne mast hai ki kisi ka bhi lund khada ho jaye.... hum parivaar mein 4 log hain papa army mein hai to unki posting shimla mein ho rakhi hai pichle ek saal se or chota bhai boarding school mein hai 11 class mein to ghar pe main or meri maa hi akele rahte hain....main apni maa se bahut pyar karta hu par us din se pahle meri neeyat apni maa ke pratee aisi nahi thi
ye kahani 2 mahine pahle ki hai .........dopahar ka waqt tha main kamre mein leta hua tha or maa naha ke bathroom m se aayi thi vo jab kamre mien aayi to use laga ki main so raha hu or vo sheeshe ke saamne taiyar hone lagi par main soya nahi tha main neeche aankh khol ke dekh raha tha mera maa ne salwar or kurta pahna hua tha jo bheeg chuka tha….. to usne almaari se dusre kapde nikale or pahane ke liye bed pe rakh diye....maa ne pahle apne kurta nikala fir vo sirf white bra or salwar mein thi uske chooche kya mast lag rahe the ekdum bra mein kase hue the mann kar raha tha ja ke pakad lu or choosne lag jaun fir usne apni braa bhi utar di uske chooche jaise aajad ho gye or kya lag rahe the dosto mein bata nahi sakta mera kya haal ho raha tha us waqt uske mote mote chooche hil rahe the or nipple baithe hue the fir use apni salwaar ka nada khola or salwaar utar di,,, usne panty nahi pahni hui the ooooooooaaaaaahhhhhh aaahhh kya nazar tha maa mere saamne bilkul nangi khadi thi or uski choot pe halke halke baal the kya mast lag rahi thi lagta nahi tha ki uski choot se main nikla hu kyunki vo itni tight lag rahi thi maano kai saalo se chudi na ho main to pagal hi ho gya mera lund meri nikkar mein se bahar nikalna chahta tha ......fir maa ne kapde pahne or chali gayi.............meri to dekh kar hi haalat kharab ho gyi thi us din maine apni maa ko pahli baar nanga dekha tha fir maine soch liya ki ab to isko chodna padega warna mujhe shaanti nahi milegi.............. fir thodi der baad maine bathroom mein gaya ja ke 2 baar muth bhi maari us din se mera nazariya mera maa ki taraf badal chuka tha ab main usko chodne ke sapne lene laga..................
kuch din tak aisa kai baar hua main ja kar pahle hi let jata or maa ko nanga dekhta or muth bhi maarta ek din raat ko mere dimag mein ek plan aaya kyun na maa ko apna lund dikhaya jaye…..maa mere saath hi soti thi us raat ko main jaldi sone ka natak karne laga maa ko laga ki main so chukka hu par main soya nahi tha main maa ke bare mein hi soch raha tha ki meri maa kya cheez hai ek dum mast gand mast choot jise koi bhi chodna chahey soch soch kar mera lund khada ho gya tha,. Maine nikkar pahni hui thi or us din maine jaan bhujh ke underwear nahi pahna. Mere lund se meri nikkar ka tent ban gya tha maa tv dekh rahi thi tabhi maa ki nazar meri nikkar pe gayi vo mera lund ki taraf ghoorne lagi or apni salwar ke uper se hi apni choot ko masalne lagi main ye sab dekh raha tha maa garam hone lagi thi vo shayad apni chudai ke din ko yaad kar rahi hogi or choot ko ragadne lagi apne haath se fir so gyi ,,,,,,,,2, 4 din aisa hi hua main jaldi sone ka bahana karta or meri maa mujhe aise hi ghoorti par us din shaayad meri zindgi ka bahut hi accha din tha us din maa ne nighty pahni hui thi or main sirf nikkar mein so raha tha matlab sirf maa ke liye waise to main jaga hua tha……….maa ne mujhe check karne ki liye hilaya ki main so raha hu ya nahi…..ki “amit amit……..so gya kya tu”? par maine koi response nahi diya …….maa ne hausla badha ke mere lund ko uper se hi padkadne lagi or sahlane lagi maano mere shareer mein current daunde laga main pagal so ho gya tha waaaaaaaaaaaaaaaaaooooooooooooooooooooo baaaaataaaaaaaaaaa nahiiiiiii sakata kaisa feel ho raha tha jaise jannat mein hu main……. Fir maa ne meri nikkar ko neeche sarkaya or lund ko apne komal haathon se hilane lagi dheere dheere fir kuch der ke baad,,,,,,,, meri maa ne mera haath padka or apni nighty ke andar dalne lagi aaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhh aaaaaaaahhhhhhhhhhhaaaaahhhhhhh kya feeling aa rahi thi main to pura garam ho gaya tha ki meri maa ye kya sab kar rahi hai …………..sochne pe sab ajeeb sa lag raha tha ki aisa bhi kabhi ho sakta hai ki meri maa aisa kare mere saath par jo sab ho raha tha vo to mujhe hi pata hai ki kya maza aaraha tha………….
Fir maa ne meri ek ungli ko apni chut pe lagaya or ragadne lagi usne apni nighty kamar tak uper utha rakhi thi. Kamre m sirf tv chal raha tha par uski awaj band thi to jo light tv ki aa rahi thi usi main sab dikh raha tha main ek aankh khol ke sab dekh raha tha ………..mann to kar raha tha ki uth jaun or uth ke chodna shuru kar du par nahi main aise hi leta raha or dekhne laga maa kya kya karti hai…… maa ne pahle ek ungli se apni chut pe laga ke ragadne lagi or dheere dheere andar dalne lagi maa ki munh se aahhhhh ki awaj aayi or maa garam ho ke siskaaaariiiii lene lagi aaaaahhhhhh aaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhaaaa aaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhh fir maa ne meri dusri ungli bhi apni choot mein ghusa li or ander bahar karne lagi mujhse raha nahi gaya or main uth gaya……………..
Maa mujhe utha dekh ke ek dum se chaunk gayi or hadbadaane lagi main kaha maa ye kya kar rahi hi maa ki nighty kamar tak thi or uski nangi choot meri ankhon ke saamne or or mera lund bhi nikkar ke bahar tha………..maa ye dekh ke darr gayi or mujhse bolne lagi beta tere papa to yahan hain nahi or mujhe to sex kare bhi kam se kam 1 saal ho gya hai……..isliye main ye sab!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!.... itne mein maine bola agar aisa kuch tha to mujhe bol dete ……….to maa ne kaha mujhe darr tha kahin tu mana na kar de isliye bola nahi or khud hi karne lagi…………..mujhe maaf kar de betaaaaaaa!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!! Maine kaha aisa nahi hain maa main apki koi baat kabhi mana nahi karta …………… ye sun ke maa ne mujhe gale laga liya or mere honton pe kiss karne lagi
Kyaaaa kisssssssssssss thi paanch min tak main maa ki smooch leta raha buri taraah……. Fir maa ne mujhse pucha beta tu mere saath sex karega ??????????? main bola haaan main karunga …………… maa na kaha pahle kisi ke saath kiya hai to maine kaha nahi maa kabhi nahi kiya……………….. to maa boli koi baat nhi main tujhe bataungi kaise karna hai……………maine kaha okkkkkkkk.
To maa ne apni nighty puri utar di or mujhe bhi kaha ki apni nikkar utar de mujhe thodi sharam si ayi par maine utar ke alag rakh di……………maa mere lund ko ghoorne lagi or hath mein leke boli wah beta tera lund to ab bada ho gya hai or aaaj ye apni hi maa ki chut main jaayega…………………..mera to aisi diry talk se hi khada ho gya or uchaal marne laga……………….. fir maa ne kaha tu apni jheeb se meri choot ko chaat to maine waisa hi kiya maa ne apni dono taaange faila di or let gayi main maa ki choot pe jheebh se chaatne laga maa ka ek baar paani chooth chukka tha to namkeen namkeen sa taste aa raha tha kya choot thi maa ki halke baalo wali ekdum mast main buri tarah se use choose laga maa ne mere baal pakad liye……………or andar dabane lagi apne choot ki taraf or jor jor se bolne lagi //////////////////choos beta choos or jor se choos aaj pee ja apni maa ki choot ka saara paani aaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhh aaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhh ttttttttttttttttteeeeeeeeeeeeeeezzzzzzzzzzzzzzzzzz aaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhh mmmmmmmmmarrrrrrrrrrrrrrr gayyyyyyyyyiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii mmmmmmmmmmmhhhhhhhhhhhhhhhh aaaaaaaaaaa aaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhh
Ye sab sun ke mujh mein josh aa gya or main or tezi se chooosene laga or maa ki boobs bhi dabane laga maa buri tarah se machal uthi thi……………………fir maine upar ho ke maa ke boobs bhi choose ek ek kar ke or apne do ungli maa ki choot mein ghusa ke hilane laga kamre mien pach pach ki aawaj or meri maa ki siskaari goongne lgi aaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhh mmmmmmmmmmmaaaaaa ccccccchhhhhhhhhhhhhhooooooooooooooooddddddddddddd mujhe beta chod apna lund meri choot mein daal de jaldi daal mujhe or mat tadpa fir maine maa ko seedha lita diya or apne lund ko pakad ke maa ki chut pe ragadne laga thodi der ragadne ke baad maaine zor lagaya or andar ghusane laga maaa ne mujhe pakad liya or kas ke dabane lagi neeche se maa mera saath de rahi thi lund ghuswanne mein or mera lund dheere dheere maa ki choot main sama gaya………………kya mazaaaa aaa raha tha yaaaarrrrrrrrrrrrrr manooo main swarg mein hu choot bilkul garam garam thi or main maa ke uper leta hua tha haatho se uske boobs daba raha tha maa ne mujhse kamar pe se pakda hua tha or apni gaand ko mere lund ki taraf daba rahi thi………..wwwwwwwwwwaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh waaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhh
Main pagal hua ja raha tha fir main dheere dheere dhakka lagane laga or kamre mein thap thap ki aawaj goonjne lagi maa baar baar bol rahi thi or tez beta or tez aaj faaaaadddddddddddddddd de apni maaaaaaaaaaa ki chooooooooooooot ko………….aaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhh aaaaaaaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhaaaaaaaaaaaa ye sab sun ke mere andar or jaan aa gayi or main puri speed se lund ander bahar karne laga fir 10 min baad lagatar chodne ke baad mera paani chuthne waala tha to maine maa ko kaha ki mera paani aane waala h kya karun …………..????
To maa ne kaha tu chinta mat kar main operation kara hua hai tu paani ander hi chod de kuch nahi hoga fir kaya tha maine puri zor se jhatke mare or mera saaaara paani maa ki choooot mein hi chooth gya…………………… us raat humne 2 baar or sex kiya or ab jab bhi mauka milta hai hum sex karte hai…

मेरी सैक्सी मम्मी

इसे आप मनघड़ंत स्टोरी कहे या और कुछ पर सच बात तो ये है कि सेक्स मतलब सेक्स है वो किसी से भी किया जा सकता है या हो जाता है।


अब मैं २४ साल का हूँ और अपनी ऐम.ई. की पढ़ाई कर रहा हूँ दिल्ली में अपनी फॅमिली से दूर।


पता नहीं वो सब कैसे क्या हुआ सब एक सेक्स कहानी की तरह लगता है पर ये कोई कहानी नहीं बल्कि सच्ची घटना है जो मै एक्सबी के माध्यम से पेश कर रहा हु
आपके सामने रख रहा हूँ।


बात उस वक्त की है जब मैं १८ साल का था। एक दिन हम किसी बर्थडे पार्टी में जा रहे थे, मेरी माँ को तैयार होने में काफी वक्त लगता था इसलिए पापा हमेशा ही गुस्सा हुआ करते थे, उस दिन पापा गुस्से में अकेले ही चले गए, माँ आज बहुत ही खूबसूरत लग रही थी, माँ ने सिल्क की साडी पहनी थी और बाल स्टेप कट किए हुए थे, होंटो पे ब्राउन लिपस्टिक, और क्या कहूँ ऐसा लग रहा था जैसे मानो वो किसी मूवी की एक्ट्रेस हो. बस वो थोडी मोटी थी बाकी फिगुर तो ३६ -३० -३६ है।


ड्रेसिंग रूम से आवाज़ आई बेटे ज़रा इधर तो आना, मै रूम में गया तो माँ आइने के सामने खड़ी हाथ पीछे कर के ब्रा का हूक लगा रही थी, मुझसे कहा ये हूक तो लगा दे, मैंने हूक लगाया तब पहली बार मैंने मेरी माँ को ब्रा में देखा था. आइने में माँ के ३६ साइज़ के बूब्स साफ़ दिखाई दे रहे थे .फिर मैं और माँ दोनों पार्टी के लिए निकल पड़े.


इस वक्त मुझे कुछ समझ में नहीं आता था पर ये जान चुका था कि मेरी माँ बहुत सेक्सी है. तबसे मैं कभी कभी माँ की ब्रा और पैंटी पहन कर देखता था.२ -३ सालों बाद पापा का प्रमोशन हो गया. अब पापा हमेशा ऑफिस के काम से वीकली बाहर गांव जाते थे, तब घर में हम ४ लोग होते थे छोटा भाई, बहन, मैं (सबसे बड़ा) और हमारी खूबसूरत माँ जिसे सजना - संवरना काफी पसंद था और कुछ हद तक बेशरम भी थी.


जब भी घर में कोई नहीं होता तब माँ हमेशा सिर्फ़ ब्रा और निक्कर में ही बाथरूम से बाहर आती और अपनी साड़ी पहनती. माँ की उमर ३६ साल होते हुए भी वो बहुत ही नशीली लगती थी, मैंने कई बार माँ को ब्रा और पैंटी में देखा था कपड़े पहनते हुए, कई बार तो नहाते हुए भी देखा था पर छुप छुप के, जब भी दरवाजा खुला छोड़ नहाती थी.


तब मेरी हालत कैसी होती होगी आप महसूस कर सकते हो.


वो गर्मी के दिन थे. घर में कूलर था पर बिजली कभी भी जाती थी आती थी रात को कभी कभी तो १ -२ घंटे आती ही नहीं थी. उस रात से तो मेरी जिंदगी ही बदल गई। उस रात मैं और मेरी माँ पास में ही सोये हुए थे भाई और बहन बाजू में थे। रात के करीब ११ बजे बिजली चली गई मेरी भी नींद खुल गई। मैंने देखा की माँ मोमबत्ती लगा रही है मुझे नींद नहीं आ रही थी गर्मी भी काफी हो रही थी.थोडी ही देर में देखा तो माँ अपना ब्लाउज उतार रही है, माँ ने काली ब्रा पहनी थी इसलिए उन्हें ज्यादा गर्मी लग रही थी, ब्रा भी जालीदार थी इसलिए उनके नीपल साफ नजर आ रहे थे. ब्रा के ऊपर से उनके बड़े बड़े बूब्स आधे से भी ज्यादा नजर आ रहे थे.


मै तो देखता ही रह गया. वैसे तो मैंने कई बार माँ को इस हालत में देखा था, पर आज करीब से देखने का मौका मिला था. मैंने कभी सोच भी नही था कि मेरी माँ इतनी खूबसूरत है. अब मै काफी समझदार हो गया था। माँ ने फिर अपने बालों को उपर करके बाँध दिया। तब मैंने माँ की ब्रा के हूक को देखा लगा कि खोल दूँ इसे। थोडी ही देर में बिजली आ गई और कूलर शुरू हो गया। माँ बिना ब्लाउज के ही सो गई.


मुझे नींद नहीं आ रही थी मैं सोच रहा था कि काश मुझे आज रात को माँ को चोदने का मौका मिलता !!!!!!!!


पर किस्मत ने साथ नहीं दिया ...


कब सुबह हुई पता ही नहीं चला. अब मैं हमेशा माँ को चोदने की नज़र से ही देखता रहता। आज मैं स्कूल नहीं गया था. माँ जैसे ही नहाने गई मैं चेंजिंग रूम जाकर सोने का नाटक करने लगा. माँ आई आज वो सिर्फ़ तौलिया ही ओढे थी फिर उन्होंने वो भी हटा दिया माँ सिर्फ़ ब्रा और पैंटी
ही पहने थी, माँ की जांघें बहुत ही चिकनी और गोरी थी और पैंटी से उनकी गांड उभर कर आई थी और ब्रा के अंदर से बड़े बड़े और काले निप्पल के बूब्स तो मानो बाहर निकलने को बेकरार थे .. मैं माँ की खूबसूरती देखते ही झड़ गया ..


फिर माँ आईने में अपनी बगलों के बालों को निहार रही थी. माँ ने पापा का रेजर निकला और बालों को निकालना शुरू किया. मैं सोच रहा था काश
मेरी शादी मेरी माँ से हुई होती .......!!!!


आज फिर रात हो हो गई .. सोचा आज तो किस्मत साथ दे दे। मैं सेक्स में ये भी भूल गया था कि वो मेरी माँ है। हम सोने की तय्यारी कर रहे थे .
भाई बहन सो चुके थे, पापा भी घर में नहीं थे. माँ ने मेरे सामने ही अपना ब्लाउज उतारा और अपनी पी� खुजाने लगी. माँ ने आज सफेद ब्रा पहनी थी, धीमी रोशनी की वजह से माँ और भी सेक्सी लग रही थी, मैंने कहा क्या हुआ?


माँ बोली - कुछ नहीं ! खुजली हो रही है जरा गर्मी का पाउडर तो ले आ !



मैं पाउडर लाया. माँ ने कहा अब लगा भी दे. मै माँ के पी� पर पाउडर लगाने लगा पर ब्रा का बेल्ट उँगलियों में फँस जाता था. माँ ने कहा जरा बगल में भी लगा दे माँ ने हाथ उपर उ� ाया मैंने देखा कि आज सुबह जो माँ ने बाल निकाले थे वो जगह काफी चिकनी हो चुकी थी मैंने कहा ये हूक निकाल दूँ तो माँ बोली क्यों?


मैंने कहा ताकि पूरी पी� को पाउडर लगा सकूँ.


माँ ने कहा � ीक है पर पूरी ब्रा मत निकालना. फिर मैंने माँ की ब्रा का हूक खोला। माँ की चिकनी पी� काफी सुंदर लग रही थी. मैं कभी कभी अपना हाथ आगे की और भी ले जा रहा था जिससे मै माँ के बूब्स को टच कर सकूँ. फिर माँ ने ख़ुद ही अपनी ब्रा उतार दी और कहा जरा इधर भी पाउडर लगा दे .मैं माँ के बूब्स सहलाने लगा. माँ के बूब्स काफी बड़े और नरम थे, माँ के बूब्स इतने टाइट थे कि ब्रा की जरुरत नहीं थी।


मैं माँ के नीपल को दबाने लगा तभी माँ ने कहा क्या करते हो .. माँ की धड़कने बढ़ रही थी .. फिर माँ ने कहा तेरा भाई उ� जाएगा .. हम चेंजिंग रूम में चलते हैं। माँ के बूब्स चलते हुए हिल रहे थे। फिर मैंने कहा अब तुम मुझे पाउडर लगा दो. माँ ने कहा क्यों तुझे भी खुजली हो रही है? मैंने कहा हाँ. माँ ने कहा � ीक है. मैं शर्ट और बनियान निकाल बेड पर लेट गया. माँ मेरे पी� पर पाउडर लगा रही थी।


अब माँ ने मुझे पलट जाने को कहा ताकि वो मेरे सीने पर भी पाउडर लगा सके मै अब पी� के बल लेट गया और माँ मेरे बाजु में थी माँ जब मुझे पाउडर लगाती मै उनके बूब्स की और देखता था। वो बहुत ही रसीले लग रहे थे मैं बड़ी हिम्मत से माँ के बूब्स को हाथ लगाया माँ ने कुछ नहीं कहा
फिर मैंने उन्हें दबाना शुरू किया, मै उन्हें धीरे धीरे दबा रहा था।


माँ ने कहा जरा देख तो लो तेरे भाई बहन सोये कि नहीं?


मै देख आया दोनों सोये हुए थे .. माँ को बताया।


माँ ने कहा हम इधर ही सो जाते हैं .. मैं भी मान गया माँ ने अपनी साड़ी उतारनी शुरू की। मैंने कहा साड़ी क्यों निकाल रही हो , तब माँ ने कहा आज मै तेरे साथ रात गुजारना चाहती हूँ और माँ ने अपनी साड़ी उतार दी अब वो सिर्फ़ पैंटी में थी, माँ की चूत के बाल जालीदार पैंटी से साफ नज़र आ रहे थे.


क्यों आज क्या तू पहली बार मुझे नंगी देख रहा है ..


मैंने कहा मैं कुछ समझा नहीं.


मुझे सब पता है तू रोज़ मुझे नंगी देखता है जब मैं नहा कर आती हूँ, क्यों सच है न ???????


मैं एकदम ही डर गया, डर मत माँ ने कहा देख मैं ये बात तेरे पापा को नहीं बताउंगी पर एक शर्त है.


मैंने कहा कौन सी शर्त ? माँ ने कहा तुझे मेरे साथ नंगा सोना पड़ेगा.


मैं डर के मारे तैयार हो गया ..मैंने अपने कपड़े उतार दिए। फिर हम दोनों बेड पर आ गए. माँ सिर्फ़ अपनी पैंटी में ही थी और मै अंडरवियर में. माँ मुझसे लिपट गई और चूमने लगी, मैंने कहा ये सब � ीक नहीं और बेड से उ� गया ..


तब माँ ने गुस्से में कहा जो तू करता है क्या वो � ीक है अपनी माँ को नहाते हुए देखता है !


माँ ने मुझे समझाया बेटे ये कोई ग़लत बात नहीं है ..तू भी अब जवान हो गया है और मेरी भी कुछ इच्छाएं हैं जो तेरे पापा समय की वजह पूरी नहीं कर सकते, तब तू मेरी इच्छाएं पूरी करे तो इसमे ग़लत क्या है ? आह्किर मै तेरी माँ हूँ .. और बेटा ही माँ को समझ सकता है ..


मैंने कहा अगर पापा को पता चला तो ........


माँ बोली यह बात हम दोनों के बीच ही रहेगी .....टॉप सीक्रेट ....और जब कि तूने मेरे बूब्स को दबाया और सहला भी दिया है तो फ़िर अब चोदने में क्यों घबराते हो ? बात सिर्फ़ आज रात की तो है ..


तब मैं मान गया , आख़िर मैं भी तो यही चाहता था. माँ ने कहा चलो बेटे आज हम सुहागरात मानते हैं , आज की रात तुम ही मेरे पति हो ..


फिर माँ ने मुझे अपनी बाँहों में कस के पकड़ लिया और मुझे चूमने लगी मैंने भी माँ को चूमना शुरू किया, माँ मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से सहला रही थी, मैं भी माँ की चूत को पैंटी के ऊपर से सहला रहा था। फिर माँ ने मेरी अंडरवियर उतार दी और मेरे लौडे को हाथ से सहलाने लगी ताकि वो और बड़ा और टाइट हो जाए।फिर माँ ने अपनी कच्छी उतारी और मेरे लौडे को अपनी चूत में डाल दिया अब हमने खड़े खड़े ही चोदना शुरू कर दिया था। मैंने अपना
दायां पैर बेड पर रखा और जोरों से धक्के दे रहा था ..माँ के मुंह से आह ..!! आह ..!! आह ..!! आवाज़ निकाल रही थी ..माँ ने भी मुझे जोरों से अपनी बाहों में पकड रखा था।


फिर हम बेड पर आ गए और मै माँ के नीपल को मुंह में लिए चूस रहा था, माँ एक हाथ से मेरे लौडे को सहला रही थी। फिर मैंने माँ को बेड पर पी� के बल लेटाया और माँ की चूत को चूमने लगा। माँ सेक्स के मारे पागल हो रही थी, फिर माँ ने मेरे लौडे को चूमना शुरू किया,वो उसे मुंह में ले रही थी।


फिर माँ ने मेरा लौड़ा अपने हाथों से अपनी चूत में डाला और कहा- ले अब छोड़ अंदर तक ले जा ..... माँ ने अह्ह्ह ...... भरी, कहा ऐसे ही करते रह, मै भी माँ की जांघों को पकड़ पकड़ कर चोदता रहा .....


बहुत अच्छा लग रहा था. मेरा गिरने ही वाला था माँ ने कहा अंदर मत गिरा फिर माँ ने मुझे बेड से दूर कर के नीचे गिराने को कहा।


हमने फ़िर एक दूसरे को चूमना शुरू किया और उत्तेजित हो गए। मां बिस्तर पर लेट गई और मुझे कहा कि मेरी गाण्ड में लौड़ा डाल दे। मैंने मां की गाण्ड मारना शुरू किया। फ़िर हम सीधे हो कर एक दूसरे को चोदते रहे। रात भर हम सब कुछ भूल कर बस चोदते ही रहे। मां को कई तरह से चुदवाना आता था। उन्होंने मुझसे १०-१२ अलग अलग तरीकों से चुदवाया। मां का बदन काफ़ि नरम और खूशबूदार था। मैंने मां को पूरी तरह से सन्तुष्ट कर दिया।


इस बीच मैं दो बार झड़ गया। रात के तीन बजे हम कपड़े पहन कर सोने चले गए। मां खुश लग रही थी। सुबह जब मैं नाश्ते के किए बै� ा तब मेरी मां से बात करने की हिम्मत नहीं हो रही थ


मां ने कहा- क्या हुआ? मैंने कहा है ना तुमसे कि यह बात सिर्फ़ हम दोनो के बीच रहेगी। और फ़िर भी तुम्हें शरम आती है तो मुझे अपनी वाईफ़ समझ सकते हो, वैसे भी हम सुहागरात तो मना ही चुके हैं


मां ने हंसते हुए मेरे हों� ो को चूमा। मैं भी मां को अपनी बाहों में लेकर चूमता रहा।


फ़िर उस दिन से जब भी हमारा मूड होता और पापा घर में नहीं होते, हर रात हम सुहागरात मनाते रहे। कभी कभी तो दिन में भी बिना कपड़ों के साथ रहते। एक दिन तो मैंने मां के नीचे वाले बालों की शेव कर दि थी और मां ने मेरी। अब चुदाई में बहुत मज़ा आता था। कभी कभी हम ब्लू फ़िल्म देख कर वैसे ही चुदाई करते थे।

मैं अब मां को नाम से पुकारता था। अब हम ऐसे रहते थे जैसे कि मानो हम सच में पति-पत्नी हों। ड्रेसिंग रूम को ही हमने अपना बेड-रूम बना लिया था। भाई और बहन दूसरे कमरे में सोते थे और हम पूरी रात बिना कपड़ों के साथ में सोते थे। मां को अभी भी मेक-अप का शौंक था। वो मेरे लिए ही अब सजती संवरती थी। मैं कभी कभी स्कूल नहीं जाता और पूरा दिन मां के साथ चुदाई करता। जब भी मैं मां को किसी शादी, पार्टी में ले जाता तो लोग भी हमें पति-पत्नी समझते थे।



एक दो बार तो पापा घर में होते हुए भी मैंने मां को चोदा। मां तब नहा रही थी और पापा टी वी देख रहे थे। मैंने बाथरूम के पास जाकर मां को आवाज़ दी, मां ने कहा - अभी नहीं, अभी तेरे पापा घर में हैं, जब मैं नहीं माना तो मां ने मुझे बाथरूम में बुला लिया और हमने चुदाई कर ली।


बहन ने एक दिन पापा को बताया कि मां हमारे साथ नहीं सोती, भैया के साथ सोती है तब मां ने गुस्से से कहा- कुछ भी कहती है नालायक, तेरे भैया को पढाते हुए कभी कभी नींद आ जाती है तब वहीं सो जाती हूं। पापा ने कुछ नहीं कहा क्योंकि पापा तो हमारे इस रिश्ते से बिल्कुल ही अनजान थे ना…॥

GALTI MOM KI THI

meri maaa bahut hi mast maal h pura bhara huwa sareer or maintain bhi toh yeh baat h garmiyo ki raat ka samay tha mere pitaji or maa unke bedroom mein soo rhe the or mein baher k kamre mein so rha that oh light chali gayi thi 11 bje k karib toh mera pankha band ho gya us kamre mein inverter ka point nhi tha …toh mein uth ker baher aa gya gallery mein or baith gya seediyo pe to hander se mujhe awaaz sunai di …jaise koi haaf rha hor suna ki itne din ho gye kerte huwe ab bhiii derd kerte ho aaaaaahhhhhh..toh mein kamre k kareeb gya kamre k gate simply bus jhok rkhe the or night bulb on tha kyounki us kamre mein inverter ka point tha or unhe pta bhi nhi tha ki light chali gayi h …mein gate k pass aake ander dekhne lgaa mene dekha ki mummy bed per nangi leti huwi h or papa unhe chod rhe h or kiss bhi ker rhe h…or mummy bhi gand utha utha ker unhe mjaa de rhi h or unse chipak rhi h yeh najara dekh ker mera lund underwear se bahar aa gya or pura tan gya or mein sochne lga ki yeh chut mujhe bhi mil jaye toh mjaa aa jaye….

10 minute baad unki chudai khatam ho gai or papa side mein let gaye ..or hafnelgee or sone ki position mein aa gye mom kuch der leti rhi or phir uthi or apne kapde dhoodne lgi …unke kapre pe papa so rhe the ..phir who aise hi bahar aane lgi gallery mein sayad who bathroom jar hi thi mein turant bhaag ker bathroom mein ghus gaya kyounki mene dekha tha ki aksar mom room mein jaane k baad kuch der baad bathroom mein jaati thi…phir mein bathroom mein ghusa or gate khula jhod diya usme bhi light ka inverter point nhi tha ..toh mummy bathroom mai aayi or aaah uhhh kerne lgi mujhe lgaa who chut mein ungli ker rhi thi unki pyass bhuji nhi h…ab mera bhi bura haal ho gya ..mein corner se aage aaya or unhe kiss kerne lgaa or baal pakad liye who jhodane ki koshish kerne lgi or Dhaka deni lgi or machalne lgi…mein unhe jor se kiss kerta rha or unke muh se awaaz bahar nhi aane di or bathroom ka gate band ker diya ..or unke muh per haath rakh diya or unhe diwaar se lgaa diya or apna lund unki chut se sataya or chodne lga or unhe phir kiss kerne lgaa ..unhi maloom nhi tha ki koun unhe chod rha h….

Mene unki ek taang uthaai or jor jor se chodne lgaa unka paani nikal gya tha or oppose bhi kum hogya tha …phir kuch der mein mene bhi unki chut mein ganga daal di or unhe chjod diya or bola mjaa aa gya mummy ..unhone mujhe 3-4 thapad mare or boli haramzade paapi yeh kya kiya tune mein bola aaram se boliye papa ne sun liya toh aapko or mere ko maar dalege who boli kutte tujhe toh mar jaana chahiye harami ..

Mene unka muh pakda or bola dekhiye mene aapka sex dekha h ek toh aapki galti ki room khula choda or upper se aap bathroom mein aai or chut mein ungli daal rhi thi mein bhi toh merd hu kab tak control karu..or aap mujhe bahut sexy lagti ho I love you or kiss ker diya who mujhe Dhaka de ker kamre mein chali gayi or band ker liya mujhe saari raat neend nhi aai ki mene kya ker diya unhone papa ko bta diya toh…subah jab mein utha toh dherte huwe papa k pass gya who bole beta company training se mein 1 mahine k liye out of city jar ha hu mummy ko paresan mat kerna o.k ..ab mujhe lga ki unhone papa ko nhi btaya h or bola o.k papa .

Or who chale gye per mumy k chehre per gussa tha mein unke pass gya or bola thanks aapne papa ko nhi btaya who boli aane k baad bataugi tujhe pta chalega phir…mein phir wapis aa gya 2-3 din aise hi nikel gye who mujhse baat nhi ker rhi thi or khana bna ker rakh deti thi…

Phir next day who mere room pe aayi raat ko or boli dekh tu buri sangti mein pad gya h..jo huwa use bhul ja or aage sudher ja ..thik h ..mein bola mummy mein aapko bahut like kerta hu or papa ki tarah pyaar kerna chahta hu aapmki merji se..woh boli yeh nhi hota tu mera beta h pti nhi samjha gusse mein boli who…mein kuch ruka or bola ki toh pti bna low or lgaa ki who mare gi ..woh boli toh nhi maange tu..mein bola please mom maan jaao kissi ko nhi pta chalega bahar or aapko khus bhi rakhoga promice..

Who khadi hui gate per gai or band ker diya or tube band kerke night bulb jala diya ..or mere pass aayi or apni kameez nikal di mein yeh dekh ker khus ho gya or utha or unhe kiss ker ne lgaa or garden boobs ko chumne lgaa or gand dabane lgaa or bola thanks mom ab unhone salwar bhi nikal di or boli le puri ker apni pyass..

Phir mene unki bra kholi or bed per lita liya or chuche ko chusne lgaa or chut per kachi k upper se hi haath se masalne lgaa ab unke chucho k daane or nipal bole toh sakt ho gye ab unhone mujhe bed per patak diya or mere upper aa gai or kiss kerne lgi or saare sarrer per kiss kerne lgi kiss kerte kerte who niche tak pahuchi or meri niker or underwear ek saath nikal diya or mere lund ko chumne lgi or boli beta issne kya choda tha us din mujhe wapis aana hi pdaa..or chatne lgii phir unhone apni kachi utaar di ..

Or let gai ab mene unki taange chodi ki or chut k upper garam saase chjodne lgaa who boli aahhhhhhhhhh beta mat tadpa ek baar toh jaldi chod de phir kerlena jo kerna h ab mein unke upper aa gya or lund ko chut pe rkha or bola mom ek jhatke mein utaar du who boli utaar de mein bola derd hoga who boli koi baat nhi teri maaa mein bahut himmat h beta chal aaja ab mene unke muh pe apna muh rkha or bed pakda or unhone meri pith pakad li or mene jor lgaa ker press kiya or dheere dhreere mera lund unki chut ki gehrai mein samata gya or jasse jaise lund ander jar ha tha who meri pith per utni jor se nakhhon daba rhi thi or muh khol rhi thi chillane k liye per mein unhe kiss kiye jar ha tha jisse uuuuuuuuuuuuuuuuuhhhhhhhh ki awaaz hi aa rhi thi pura lund utaarne k baad 7 inch ka mein ruk gya unhone kuch chain liya or boli suru ho ja beta pillai ker mere raja..chod apni vaisya ko beta tu raja h mere beta or mein teri ghulam chal chod ..

Yeh sun ker mein unhe meri biwi ki najar se dekh rha tha or bola abhi le meri rani or lund bahar nikala or phir daal diya who lund k ander jaane k saath saath aaaaaaaaaahhhhhhh ki meethi siskari le rhi thi or chipak rhi thi mein aise hi 4-5 baar unke ander aaram aaram se lund utaarta or unki gerb mein takrata kya mast aaaaahhhhhhh le rhithi who phir mein unhe phataphat chodne lgaa lund jitni speed se ander jaata use dugni speed se bahar aata..woh bhi chilllane lgi chod..choddd.chhodd.beta aah .kya bat h mere kamdev kya chez paida ki h mene chod meri machine chod hhhoooooo aah eeesssssssssuuuuuffffffff ker rhi thi who bed ko pakad ker or doono taange hwaa mein thi unki..

Or mein bhi bed pakad ker pure jor se ghachke maar rha tha unke meri body ki nasse nikal aayi thi jaise jim mein bahar aa jati h or mere muh se bhi huuuuuuuuuuaaaaaaaaaahhh aiissssssssssss aaaaaaahhhhhhh meri rani kya cheez h tu tujhe toh ssra di or saari chodu toh bhi kam h aaaaaahhhhhhhh pure kamre mein germi ho gait hi hamari chudai se phir unhone mujhe kass k pakda or apna paani nikal diya or uth ker meri garden mein haath daal ker chipak gai or dheeli saaase chodhne lgi per mera josh berkaraar tha or mein unhe god mein baitha ker hi chod rha tha phir mera bhi time aaya toh mein unke kaan mein bola mom khaa daalu mein who boli ander hi daal beta saara ka saara mene unhe litaya or or jordar dhake mare or kiss kerte huwe saara gijar unki chut mein bher diya or unke upper hi let gya.. ku kkk or kuch der hum chup chap lete rhe aankhe band kerke ..

Or phir mein side mein let gya or phir mom se bola kyu mummy 20 saal ka lund leke kais alga who mere upper aa gai or aankho mein aankhe daal ker boli beta mjaa aa agya aaj tak mein isse dur thi..mene phir unse sexy baate suru ker di ki mom papa kitna chodte h who boli who itni achi tarah nhi ker paate umer bhi ho gai h ab unki na..phir mein bola toh ab mein hu na who boli haa j or mujhe kiss kiya or hum phi raise hi so gye…

Subah hum uthe or fresh huwe or mom ne breakfast bnaya or humne khana kha liya or mein collage bhi nhi gya phir mein mom ko bola ab gher mein itne kapde mat daaliye na ab kya chupana toh unhone kameez nikal di or bra mein ho gai or salwar bhi nikaal di or ek ghagra typr ko kanchi se kaata or jhangho tak bna liya or who daal liya or baaal khule jhod diye or boli khus ..or phir jhado nikalne lggi mein sofe pe baith ker t.v dekh rha tha aage table thi or use aage t.v mom jhuk ker jhado nikal rhi thi mere saamne toh unki chut saaf najar aa rhi thi short se uthane ki wajah se or bra ki wajah se boobs bhi naja r aa rhe the phir who mere saamne aai or sofe k niche se baith ker jhado maarne lgi mera phir tun gya who ghumi or table per kapda maarne lgi unki gaand mere saamne hi thi naangi hi thi chota sa kapda tha bus uss per mene unki gand ko pakda or chut per jeebh lgane lgaa unke muh se aaaahhhh kya ker rha h aahhhhhh iii ki awaaz nikli or who whi khadi rhi phir mein unki chut jor jor se chusne lgaa kya smell aa rhi thi phir unhone mere sir ko gand se sofe pe dbaa diya or chut mere muh per rakh ker khudi dabane lgi..or apna paani chjod diya mere muh per mein bola abhi ruk tu mene unhe jhukaya unhone haath table per rkhe or mene un ki bra khol di..or unke booobs ajaad kiye who uchal ker unke muh per lgee unke muh per baalbhi gire huwe the…

Mene apna lund nikala or unka paani unki gand per or lund per lgaya or ek taang table per rkhi or bola lo aaj ka parsad lo or pure jor se unke boobs pakde or lund gand per rkh ker Dhaka maara unke muh se cheekh nikli aaaaaaaahhhhhh kya ker rha h aaram se yeh virgin h mein bola bhi randi bna duga isse or dheere dheere pure pressure se lund gand mein utaardiya or unke kaan mein bola kyo kaisa lgaa janeman mom boli abhi derd ho rha h..

Mein kuch der ruka or phir gand chodne lgaa ab unhe bhi mjaa aa rha tha ttoh who bhi siskari lene lgi ab mene unhe table per litaya or taange kandhe per rkhi or chut per lund rkha or khud sofe per ghutne rkhe or chut ki khudai suru who bhi boli aah beta wah aahaahaahaahhahahahahah re mein chup chap unhe peil rha tha or phir hum ek saath jhad gaye or wahi jameen per let gaye ..

Or phir mein bola mom aap ne kabhi bahar chudwaya h who boli nhi per try kafi logo ne kiya mein bola jaise who boli tere chacha ne tau ne bhi ..tere papa k sabhi dost mujhse double meaning baat kerte the suru suru mein ..yhaa tak tere dada ji bhi kai baar mujhe ashirwaad dene k bahane mere boobs per nigaah rkhte h or pichle hafte hi miss call meeri thi unhone mein bola kya matlab who boli unhone mujhe pass bulaya or bole beta govind toh gher per rehta nhi jyada(mere papa ka naam ) koi kaam ho toh mujhe btana be jihhak mein boli g or aa gai .mein bola toh de do na unhe bhi bhudape mein devi k dershan waise bhi who bahar gye h aane k baad unhe khus khabri de do mummy boli kya bol rha h tu mene unki chut per haath lagate huwe bola mom isse bhi ek naya saathi milega or waise bhi pahli baar unhone hi pasand kiya tha na papa k liye unki bhi kuch icha hui hogi na aap ko dekh ker ..or waise bhi who aapko pasand na kerte toh aap aaj yhaa yeh mjee nhi lut rhi hoti ..mene unhe chut ragad ker excite ker diya ..woh boli thik kah rha h tu ..buddhe ko bhi amrit ras pila hi deti hu waise bhi tere baap ka baap h kuch hak uska bhi h na…

Ab unka paani nikal gya ungli se hi..or mein bajaar chala gya or who phir se gher ki safaai mein leg gai..mein jab bajaar se aaya toh mene dekha ki dada jib hi aaye huwe the or mom bhi normal behave ker rhi thi phir raat hui jaise hi dada ji bahar wale kamre mein sone chale gaye or mein mom k room mein phir mein bola mom jao na dada ji k pass please mein dekhna chahta hu unse chudai aapki please who boli nhi saram aati h mene unke kapde utaare or smootch ker excite kiye or mein bajar se nighty kharid ker laya tha who unhe di or bola yeh pehn k unke room mein jao or bolna aapke liye ek kaam h or yeh nikal dena bus…mein unhe le gya or dada ji k room mein ghusa diya who mom ko dekhte hi reh gaye mom unke pass gai or boli baabu ji ..or apni nighty utaar di dada ji khade huwe or bole bahu mene toh pehle hi bol diya tha …or mummy k hooth chusne lgee or bulb band ker diya main wala mein gate mein se sab dekh rha tha ..phir unhone mummy ko bed per litaya or mummy ki bra niche ki or chuche masalne lge baith ker or bole Vicky so gya na mom boli g toh dada ji neh bhi apne kapde nikaal diye or apna lun mom k haath mein de diya or bole beti jaara iski neend khol do sehlaaao isse mom unka lund sehlane lgi…..

Phir dada ji ka lund khada ho gya kuch der mein bahut mota lund tha unka phir who mom k upper aaye or mom ki taange chodi ki or bole bahu bus tu hi bachi hui thi baki saari bahuwe mere is lund ka mjaa le chuki h le ab tub hi iska aashirwaad le or ek jordar stroke maara mom k muh se dadbi awaaz mein uuuuuuuuuuuuuhhhhhhhh ki awaz nikli or bed ko pakd liya per dada ji unhe pure jor se chodne lge saath mein unke boobs pi rhe the or unhone mom k pasine nikal diye the .or phir saara cum unhone phir mom k muh per daala or bole bahu sukhi raho jaao so jaao jab kabhi icha hogi toh tumhe bta duga.

MAA KO CHODA

bhaiyo mera naam narender h or umer 23 saal h mein Haryana mein panipat mein rehta hu .mere pitaji fauj mein h.,,ek bahen h jo 19 saal ki h or meri maa jiska naam kamla h who ek housewife h ..mast aurat h bhara huwa sareer mote chutad or chuche or 5 foot 7 inchki height .yeh story meri or unki chudai ki h ki kaise mene unhe ptaya or chudai ki sharuwaat ki.

Toh yeh baat issi saal k feb. mahine ki h ..mein pichle ek saal se maa bête ki chudai ki kahaniya padh k sochne lgaa tha ki aisa bhi ho sakta h agar try kare toh …toh mein bhi ab mom ki gand or chuche niharta rehta or ab toh mujhe kapdo mein se hi unki chut dikhne lgi thi…phir ek din meri bahen mama k yhaa gai or mein or maa hi akele the gher mein ..toh mene socha aaj try kerta hu..

Toh maa subah kaam mein lgi thi toh mein newspaper padhne lga or ek bnawati news padhne lga kyounki meri maa anpadh thi who paper nhi padh sakti thi…ki u.p mein ek bête ne 5 saal tak apni maa ko choda blackmail kerke ..phir bola maa kaisa jamana aa gya h saale kaisi harket kerte h log maa boli aisa nhi ho sakta beta…yeh khabar jhoothi hogi .mein bola nhi sachi h naam bhi diya h unka..or Deepak *(mera dost) kah rha tha aisi ghatnaye kafi ho rhi h usne net per dekha h..

Maa boli pagal h apne yhaa ki khabar nhi hogi yeh bahar desh ki hogi mein bola abhi net per dekhta hu..maa bhi yeh khabar sun ker soch mein padh gai or boli aisa kaise ho sakta h beta kalyug jor maar rha h..
Ab mene laptop khola or sex stories ki site kholi or maa beta ki chudai story nikali with pics or bola maa khud hi padh lo who boli mein kya padu mujhe padhna nhi aata tujhe pta h na..mein bola maa mein kaise padu yeh asleel kahani k jaisi h who boli mein bhi toh sunu desh mein kya ho rha h padh koi baat nhi….mene unh eek story sunai jisme ladke ka baap bahar rehta h or apni maa ki pyass who ladka bhujhata h or phir who pti patni ki tarah chudai kerte h or kissi ko pta bhi nhi h …toh maa boli yeh jhuth h phir mene unhe aisi aisi 3-4 story sunai ab jab mein unhe story suna rha that oh unke face se leg rha tha ki who bhi excited ho gai h or dhyaan se sun rhi thi ..or phir mene unhe maa bête k kuch angreji site k poster dekhaye chudai k ..phir mein bola maa bde saharo mein thi hota h…or unki peeth per haath rkha phir who uthi or boli band ker isse or chal ja kuch samaan le aa .. Mein utha or lgaa chance gya shyam ho gai hamne khana khaya or sone chale gye maa raat ko 10 bje mere room mein aai salwar suit mein thi who baal khole the or boli kya ker rha h mein bola kuch nhi who boli acha tujhe kya lagta h yeh khabar jot u din mein padh rha tha jab tujhe pta h toh unke padosiyo ko nhi pta hogi mein bola nhi isme unka naam pta thodi likha h yeh khabar toh un logo ne khud daali h net per taki duniya jaan ske yeh bhi hota h m…ein bola aao aap rijai mein aa jao thand h who mere bagal mein baith gai mein bola dekho unh eek story or padhai jisme baap beta maa ko chodte h or baad mein beti ko bhi or saath mein mein unki jaagho ko masal rha tha or unka haath bhi meri jaago k pass tha or mera toh 90 degree mein khada ho gya tha… Ab mene laptop side mein rkha or mom ka muh pakda or kiss kerne lga maa boli yeh kya ker rha h mein bola jab sabhi ker rhe h aaj kal toh hum bhi kerte h na aapne suna nhi kya aaj who boli per m…mein bola aap mjaa lijiye hamare siwa koi jaanta thodi na h or unhe bed per lita liya or chumne lga rajiyi dhak ker or who bhi chumne lgi mein unki chut salwar k upper se hi masalne lga …or bola tune bahut tadpaya h janeman maa boli chup reh bus kaam ker or unhone salwar utaar di or kameez bhi utaar diya or mene bra khol di kya chuche the unke ek dum gol or khade mein toh unke chuche chusne lgaa or chut ko hatheli se ragadne lga ab who bhi uchalne lgi or aaaaaaahhhhhhhhhh ahhhhhhhhhhh..aaaaaaaaaaahhhhhuuuuuuuuu uuuuuuuffff kerne lgi..ab mein unse dur ho gya tadpane k liye..ab who mujh per jhapti or boli harami mjee leta h or mera lund jor se dbaa diya meri muh se bhi cheekh nikel gai ab mene unhe bed per litaya or taange kholi or rijaai odh li or chut per lund ghisane lgaa who bhi saath mein chut upper niche ker rhi thi ..

Ab mene Dhaka maara toh unhone aaaaaahhh bhari ab mene phir thoda Dhaka maara toh unhone mujhe pakad liya or boli pura ander ker beta per mein dheere dheere ander ker rha tha… or phir pura 7 inchka lund unki chut mein samma gya or who mujhse chipatgai or boli bahut acha h beta tera mein bola kya who boli whi jo ander gya h mein bola naam batao who boli dheere se tera lund or has pdi mene unhe chuma or bola aapki chut bhi jawaan ladki jaisi h aisi toh bahen ki bhi nhi thi who boli kya mein bola ha yeh hamara plan tha hum thak gye the chup chup ker kerte huwe ..or mein use her hafte mein kum se kum 3 baar toh chodta hu who boli ab pehle mera paani nikaal bus or mein jhatke maarne lga or who bhi her jhatke k saath aahhhhhhh aaaaaaaaaaaa aaaaaaaaahhhhhhhh haaaaaaaaa aaaaaaahhhhhhhuuuuuuuuuuu kerne lgi or bolti rhi chod harami chod meri jaisi maal nhi milegi tujhe aah chod kutte or mein bus jor jor se dhake mare jaa rha ab maaa ne mujhe kas k pakad liya or apna paani nikal diya or shaant let gai per mein unhe chodta rha or who ab chilaane lgi ki bus kern a or kuch der baad mene bhi apna saara paani unki chut mein utaar diya or unhe kiss kiya or upper hi let gya phir who boli tune teri bahen k saath muh kaala kyu kiya mein bola aaj kal aisa bhi hota h unhone mere gaal perhalka sa chaata maara or boli khaa se sikha yeh mein boli yeh jo apni pados mein aapki saheli hb na guddi aunty who bhi apne bête se hi chudwati h or usi k bête Deepak ne mujhe yeh baat batai ..maaa boli acha mein puchogi use baaato baato mein phir mene maa ko chuma or bola ab gher mein sab open h bahen aap or mein thik h enjoy kijiye or aaram se rehiye dad aate hi sab normal behave karege or phir mein or who nange hi lipat k so gaye .. Subah jab mein utha toh maa niche bhais ka dhoodh nikal rhi thi subah k 5:30 baj rhe the us waqt mein bhi uth ker niche aaya or pass mein khor per baith gaya or unki gaand dekhne lga’ piche se unki gand ki tared saaf nazar aa rhi thi who uthi balti leke toh mene unhe phir kiss kiya unhone bhi ab acha response diya or who ab sikh gait hi or sharam puri khul gai thiwoh jaake ander jhuk ker balti rakhne lgi toh mene unhe aise hi rehne ko bola or unki gand per haath pherne lgaa who bhi chup chap khadi rhi..ab mene unki salwar kholi or niche ker di or bola aap ne kabhi piche dilwaya h kya maa who boli piche nhi yhaa nhi dete ..mein bola aap dekhti jaii..

Mein bola aap dekhti jaiie aaj kal kaise mjee leteh log or doodh ki jhaag lundor gand per lagai or haath se gand kholi or lung moooge per rkha or bola thoda ashen kerna or jordar Dhaka maara unke baal pakad ker who khadi ho gai or chilla uthi aaaiiiiiiiiiii uuuuuuuuffffff derd ho rha h re mein bola pahli baar mein aapkeaage bhi derd huwa than a…baad mein mjee aayege or 4 the dhake mein gand mein lund pura ghusa diya tha ormein ander hi ander ghuma rha tha or unki chut mein ungli ker rha tha ab unhe acha leg rha tha abmin dhake maarne lga unhe jhuka ker or who bhi ab dhake maarne leg gai or boli ah bahut mjaa aa rha h re tere baap ne toh aaj tak yeh mjaa diya hi nhi mein bola koi nhi bête ne de diya or unki ek taang utha k chodne lgaa or unhe sitha kiya or ek taang utha ker chut maarne lgaa who mujh se chipat gayi or khud bhi dhake maarne lgi or hum dono ek saath jhad gaye..or phir kaam mein leggaye…mene subah hi bahen ko phone kerke bta diya ki ho gya h toh who bhi dopaher taka a gai per maa se kuch show nhi ker rhi thi phir mene socha ki aaj inhe ek dusre k samne pelta hut oh yeh open ho jayegi…phir raat hui toh maa bola chal sote h mein bola nhi mein toh puja k pass jar haq hu…maa boli harami rang badal rha h mjaa deke mein bola toh aap bhi aa jao kisne roka h..maa boli nhi mujhe sharam aati h mein bola thik h jab mein use chod rha hut oh aa jana thik h..or mein chala gaya

Phir mein bahen k pass gaya who pehle hi nangi thi or mein uske bister mein ghusa or kiss kerna suru kiya or rajai odh li phir uske boobs pine lga mein or hamara sex suru ho gya or humne aadhe ghante tak sex kiya or jab rajai hatai toh dekha ki maa side mein nangi baithi h or bahen ko boli kutiya apne bhai se hi muh kaala ker rhi h bahen boli aa jao aap bhi aap bhi kerlo or unhe khich ker who unhe kiss kerne lgi or boli chod bhai is sexy mall komere samne or who maa k chuche pine lgi or mein maa ki chut chusne lga maa tadap uthi thi or ssssssssssiiiiiii aaaaaaahhhhhhhhhhh kerne lgi or bahen ko pakad k uski chut ko chusne lgi or boli saari teri maherbani h meri beti…ab mera bhi tan gya tha dubara se menemaa ko ulta kiya or chut mein lund ghusaya or bahen ne maa ki muh apni godh mein rkha or chut chatwane lgi or mein chodne lga bda mjaa aa rha tha teeno ki ahh ufffffff aaaaaiiiiiiiisssss hummmm ki awaaz se karma gunj rha tha phir mene maa ki chut mein hi cum daal diya or wahi so gaye

MOM KI GAAND

Hy main vicky from lahore..ye meri true story hy jo abi kuch din pehly mery sath hoi..main 18 saal ka hn.main ny fsc 2nd year k paper diye hain.isliye main wela gar par hota tha
.dad usa hain or mom or main lahore main rehty hain.main ziada gar par hi rehta tha or meri mom mujy ziada bahar jany ni deti thi.gar par main or mom hoty hain dad USA hain or saal main ek bar atey hain..

Hum abi naey naey defence shift howy thy koi dost b nai tho or na hi koi GF ..isliye main muth mar kar guzara karta tha. ek din dopahar k waqt main bed par leta soch ra tha k ksy choda jaey koi gf b nai hy or ajkal garmi b buhat hy..main leta huwa tha k meri mom agai.mom k bary main btoun uska figure 38-30-42 hy..or uski gaand to buhaat bari hy ksi ka b pani nikal deti hy.usny ek tang pajama jo k white colour ka tha or sath fitting wali kameez pehni thi wo mery pas aa kar apni gaand meri terf kar k beth gai or batein karny lagi.jab uski moti gaand mery sath touch hui to mujy buhaat acha laga.main ny side badli or mom ki taraf muh karlia jis sy mera lund mom ki gaand k sath touch huny lga.

Lekan mom anjan thi shaed usky zehan main esa kuch ni tha..usdin pehli bar apni mom ki gaand sai tarha dekhi opr main to uska dewaana hugia.mom mery pas bethi phr news papaer parny lagi.phr wo uth kar janylagi to main ny uski pechy sy gaand dekhi uffffffff meri to jan nikal gai itni bari gaand dil kia abi shalwar utar kar andar daal dun par majboor tha. mom room sy bahir gai or mujy awaz lgai vicky zra bat sun na beta ..main bola g aya bahir gaya to mom ny bola k bazar kuch kaam hy mujy ly jao..tab main ny bike nikali to us din jab mom mery pechy bethi to mujy buhaat maza ara tha jab mom ki naram gaand muj sy touch hoti to maza ajata.hum ny shopping ki or ghar any k liye bike par bethy to main or mom ek sath jur kar bethy thy.mom k boobs or gaand ki waja sy mera lund tent bangaya tha pent main..phr rastey main achanak
break lagai to mom merry sath lag gai main to wahan e farig hugya pent main..

Phr gar jaa kar change kia..raat jab main sony laga to mom b bed par agai or boli aj buhat thak gai hn idr e sojaty hain..main ny bola ap sojao main bahar lait jata hn.mom boli nai idr e sojao. mom dosri taraf muh kar k sogai main jagta raha mom ki gaand meri taraf thi to main ny usy dekha to mera lund khara hugia. main ny himmat ki or lund pent sy nikal kar mom ki gand k sath uski jaghoun k beech main rakh dia. .lund ko rakhty hi main to swarg pohanch gia uffffff kia maza tha mom ki moti or gori gaand ka.main agey pechy hony laga or farig hugia or pta hi ni chala wahan jaghoun main hi lund rakh k hi sogia..subha jab utha to mera lund pent main tha or mom b pas nai thi..

Main darr gaya k mom kia soch ri hogi ..main bed sy utha or bahar gias dekha mom kitchen main black tang pajama or sath kurta pehny khana bana ri thi..uski gaand bahar ko nikli hoi thi..mom ki gaand meri taraf thi ..main usku dekh kar mast hugia or bath main ja kar lund ko tail lagaya or bahar agya..main mom k pas gia or lund ko pent sy nikal kar mom ka kurta utha jkar mom key pajamy k sath laga dia ufffff maza tha kia..ye sub itni jaldi huwa k pata hi ni chala.. mom ny bohaat roka k beta ye thek ni hy main bola teri gaand hi esi hy meri jaan kia karun isy chody bina mujy sakoon ni mily ga phr mom ko kutiya wali position main kia or apna lund jisko tail laga tha mom ki gaand k andar jatky sy dala to wo 2 inch andar gia or mom ki cheekh nikal gai aaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh beta phar dega kia apni maa ki gaand...?main ny phr jatka lagaya to mom cheekh uthi saaly aram sy randi ni hn teri maa hn phr main ny pura lund andar kardia ...mom ko b maza aney laga.jab andar gia to woh maza aya j kabi ksi larki ny nai dia.. ..aaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhh beta phaaaaaaaaaaar aaaahhhhh dy is gaand ko ye teri hy..main b josh main agaya han mom ye teri gaand to meri jaan hy main isky bina ni reh sakta..

Mom:han beta apna lund is k andar e rakha karna ..buhhaat maza ara hy.aaaaaaaaaaahhhh..

Main ny jhatky marny taiz kardiye or main ny bola mom mera pani nikalny wala hy mom boli ander e chor dy beta main mom k andar e pani chor diaaa.or mom k upar gir gia.mom kehti aj to ny meri gaand phar di..main bola mom tum meri jan ho or tumhari gaand to meri zindagi hy iskysath main ny lora mom ki gand main sai tarha rakha or usy utha kar room main ly gia or lora andar rakh kar e sogia..phr main or mom gar main khul khul kar rehty.

AAT PHERE

doston mera naam santosh kumar hai aur mere age 19sal ke hai .ye jo story main aap logo ko batane jaa raha hun ye mere pahli story hai jo mere jeevan main ek baar ghatit ho chuki hai .ye kahani tab ki hai jab mare age 16sal ki thi .mujhe pata hai ki hamare hindu samaj main isko galat samjha jata hai .lekin main kya karun ye mere sath ho gaya .ok to main apni story pe ata hun

hum lucknow ke ek chote se gaon main rahte the.mere family main keval 3 member hi they .main ,mere mummy our mere papa.mare papa ko cancer ho gaya tha jiske kara o keval 30sal ke age main gujar gay.and mere mummy bilkul akeli rah gai.(main ap logo ko apne mummy ke bare main bata dun mere mummy ke age 30yr hai and dikhne main o bilkul 20yr ki lagti hain kyonki o roz yoga karti hain.unki body ka size 32 30 32 hai.and unke boobs to kamal ke hain .and o hamesha saree hi pahnti hain. )jab papa gujar gain tab mare umar 15 sal ki thi .unke jaane ke baad ghar main main and mummy hi rah gaye .tab hamare gaon mai sukha pad gaya and main maa se kaha ki main delhi jaakar paise kamana chahta hun .to maa ne bhi mnjuri de di and main delhi aa gaya and main delhi main main kaam karne laga and main apni imandari ke bal pera tarrakki kar liya .and mujhe 10000hazar milne lage.tab maine ek kholi kiraye par liya .and main gaon jaaker apni maa ko bhi apne sath le aya .mere maa mere sath delhi a gai.and hum sath main rahne lage.mere kholii main keval ek hi kamra tha and ek hi bath room tha.pahle to mere man main maa ke liye koi galat baat nahi ati thi .par jab hum dono ek hi bed par sote the .tab ek din main jab main batroom karne ke liye utha to main dekha ki mummy ke saree unke jangh se thora uper uthi hai .and unki chikni jaangh dekh kar to mera dimag kharab ho gaya and main baath room main jaker muth marne laga .tabhi se mera maa ki taraf dekhne a nazaria badl gaya .and main ye sonchne laga ki main maa ko kaise chodun.ye sonchate hue kab din nikal aya mujhe pata hi nahi chala.main kaam per chala gaya .ad jab main shaam ko aya to hum ne khana khane ke baad sone chale gaye .tab maine janbujh kar apna innerwear utar kar keval towel lapet kar soya .and mummy bhi mere bagal main so gain.raat ko main jan bujh kar towel khol kae naanga so gaya subhah hue to sabse pahle maa utheen to main apnaa lund pahle se hi khada kar liya tha .jab unhone mere lund ko dekha to o dekhati rah gain.and baad main o mere lund pe towel dhak kar chali gain .o rooz rooz ek hi saree pahn ti thi .to maine kaha maa tumhare paas koi dusree saree ahi hai kya to maa ne kaha nahi hai .to main jaldi se bazar gaya and main do bilkul patli nity kharid kar laya usmain too maa ki bra and penty bilkul saaf saaf dikh rahi thi .unhone saree utar kar nity pahn liya .to main to pagal hi ho gaya .ab main aur bardas nahi karna chahta tha to main raat main plan banaya ki maa ko chood ke hi rahunga .to main madical store par gaya and 5tablet manforse(josh ki goli)le aya and 3goli main and 2goli maa ke khane main mix kardi jab maa ne khana khaya to main samajh gaya aaj to main maa ke chut ke darshan ka ke hi rahunga .jab hum soone ki tyyari karne lage to mujhe to khusi ke maare need hi nahi a rahi thi.and lagbhag 3 ghante baad jab goli ne asar kiya to main dheere se maa ke paas gaya and main unke kamar pe dheere dheerre hath pherne laga .maa ne kuch nahi bola to main maa ki nity dheere se upeer karne laga shayed maa ko pata chal gaya .and o uth gain aur kahne lagi ye kya kar rahe ho ye sab galat hai .tum mere bete ho main tumhari maa hun.lekin main kahan manne wala tha mere uper to goli ka asar huya tha /and maine kaha kuch galat nahi hai .bas ek baar .to mummy ne kaha nahi maine kaha plz ek baar .to mummy maan hi nahi rahithi to maine kuch soncha and iske baad main cupke se utha and wahan par lal ran rakha hua tha .maine o uthaya and maine apni maa ke maang main bhar diya .jab mere maa ko pata chala to o to jaise pagal ho gai.and idhar udhar bhagne lagi tab main utha and gas jalakar uska hath pakad kar saat phere le leye.uske kuch deer baad jab ma shant hue to ronelagi and mian shant khada raha tab maa mere paas ayin and mare pair chue aur maine maukadekhate hi use apni bahon main bhar kar uske hontho ko chumne laga.maa bhi mera sath dene lagi .maine maa ko bed par le ga kar usko jor jor se kis karne laga .lagbhag 15min main mera jhar gaya.and main maa ke saree kapree dheere dheere kar utarne laga sabse pahle main maa ki nity utari jisse maa ka gora badn mere samne pura khul gaya .uke baad maine maa ki braa fir penty utari .ab maa mere samne puri naangi khadi thi .maine unka naanga sharir dekh kar pagal ho gaya .and mera lund to khada ho gaya .uske baad maine maa ke muh main apna lund dekar kaha maa ise chuso maa ne kaha ye to gand hai maine kaha maa ismain amrit ras hai pikar to dekho maa ne mera lund muh main le liya and use lolipop ki tarah chusne lagi mere muh se aaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhooooooooooooooooooooooooohhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh nikal raha tha lagbah 20min mai main maa ke muh main hi jhar gaya .ab maine maa ko utha kar bed pe ptk diya and maine maa ke chut dekhi o bilkul gili ho gai yhi maie maa ke chut pe apnaa muh le jaa kar jeebh se puri chut ko saaf kar diya maa to jaise pagal ho gai o aaahhhhhhhhhhhhhhhaaaaahhhhhhhhhhhhuuuuuuuueeeeeeeeeeeeeeeeeooooooooooooooooooooooooo ke awaz nikal rahi the .to maine maa ke chut chatne ke baad .maine maa se kaha mera hathiyaar tere chut main jaane ke liye taras raha hai.to maa ne kaha jaldi daal maine apna lund nikala and jaise h maine maa ke chut main lagaya maa chilla uthi kahne lagi nikal apna lund maine kaha agar nilal dunga to o dubar nahi dalne degi .to maie maa ki chut main ek dhakka jor se diya to pura lund ander ghus gaya .main to rone lagi .uske baad maine dakke pe dakka deta gaya kuch der baad maa ko maza ane laga ayr kahne lagi aaahahahahahahooooooooooaoaoaoaoaoaoaouuuuuuuuuuuuueeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee mmrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrgai aarrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrarrrrrrrrrrrrrrrrrrrrammmmmmmmmmmmmmmmmmmmmmmmmmmmse lekin main kahn sunne wala tha maine to joor se dhakka chalu rakkha .lagbhag 20min baad main jharne wala tha main apnaa lund nikal and maa ke muh main jhar diya .maa ne bade pyaar se o cusa .us raat hum ne lagbhag 5 bar chudai kiya .jab subah hue to maine dekha maa nangi hi saara ghar kaa kaam kar rahi thi .main utha and piche se jaa kar unko hug kiya .and maa ne kaha uth gaye aap main kaha haan rani main utha gaya /fir maine kaha main tumhe saroj kah kar bulauga .fir main joordaar kis liya and nahanee cala gaya .

GHATNA

dosto mera naam sumit hai . main rajasthan ke bharatpur distt. Ke ek gaon se tha ab U.P. se hoo. Pehle main apne barre main bta ta hoo. Main 18 saal ka handsome ladka hoo. Meri height 5’8” , sarir majboot hai. Mere ko iss ka thode din pehle hi pta chala tha fir maine soncha ki main apni kahani bhi likh sakta hoo jo mere jeevan ki sanchi ghatna hai.

Dosto ab main ab aap ka time karab nahi karunga main ab ghatna sonata hoo. Mere ghar main hum 3 log hai . mere papa nahi hai (4 saal pehle accident main death). mom sunita and sis suman hai . sis jaipur main hai wo 20 year ki hai aur b.sc kr rahi hai. Meri mom jo ki 40 years ki hai dikhne main sunder , height 5’4”, aur monti figure(38-30-36 approx.) hai just like (madhuri dixit). Meri mom jb bhi bahar nikal tit ho sb j ski side dekh tain hai. Mere ghar ki halat jyada majboot nahi hai hum garib parivaar sai hai.

Dosto ab main abni ghatna sonata hoo jo (2011 holi) . Ko ghati thi . dosto mere ghar main ek kamra ek kitchen aur aage khula angan hai hum angan main hi nahte hai . mom aur sis nahati hai tb charpai lga leti hai . dosto mere maan main pehle kabhi asa khyal nahiaaya tha. Us din dulhandi thi jo ki holi ke agle din aati hai. Ghar pe meri mom aur main hi the iss din sb ek dusre ko rung lga tain hai tho humare mohle ke 4 ,5 uncle aaye aur unhone mom pe pehle pani dala aur fir pani main kala rung dalkar wo bhi upper dal di aur mere bhi upper daal dia wo rung jyada pakka tha jo bahut muskill se uterta hai . humare gaon main pani ki bahut kami hai jo hume bahar se lane padta hai tb ghar pe 3-4 balti pani hi tha aur nahana mom aur mere ko tha . mom ne kaha ki pani se tho kaam hi nahi chlega rung pure sarir pe lga tha tho mom ne kaha ki main pehle tera rung utar deti hoo tho mom ne mere ko kapde utarne ko kaha main kapde utar dia main underwear mai tha mom ne mere sarir pe pani dal kr sabun lagaya but rung nahi utra tho mom ne 3-4 baar aur try ki kyunki mian pith ka rung nahi utar sakta tha kyunki vahan haath nahi paunchta tha.

Tho baad main mere rung halka pad gya tha ab maine mom ko kaha ki lao ab aap naha lo main aapki pith par sabun lga dunga tho mom sarmane lagi thi fir mom ne kaha thik hai pani kyunki pani kam tha meri mom nai sadi pahen rakhi thi pehle mom nai sadi utari aur kaha ki pith pai sabun lga de maine kaha ki mom main sabun kaise lagaun blause dikkat kar raha hai meri umer 18 thi mom ne soncha ki yeh baccha hi hia aur blause utar dia meri mom ke boobs saaf dikh rahe the momki bra kali thi main sirf underwear main hi tha main kabhi kabhi blue film dekh leta hai so mom ke boob dekh kar mere maan ka saitan jagne lga tha so main mom ko nangi dekhna chata tha ab maine sabun lagana suru kia tho mera haath baar baar pith pe bre ki strip main fuss jata tha (main jaan bujh kar bhola bn gya ki mere ko kuch nahi pta hai)yeh main jaan bujh kr kar raha tha kyunki main mom ki bra utar wana chata tha. Tho maine mom ko kaha hi mom yeh apki banyan dikkat kar rahi hai tho mom husne lug gye main kaha ki kya hua mom boli ki yeh banyan nahi hai iss ko bra khte hai main kaha ki mere ko kya pta?

Fir mom ne bra bhi utar di ab main mom ke boobs deth sakta tha wooowww kya boobs the mom ke main pith pe sabun lagate lagate kabhi kabhi hath side se boobs pe bhi lga deta tha but mom kuch ni keh rahi thi tho maine aur chance lia ab main hath niche tak le jane lga jo kabhi kabhi peticot main chale jata thi (back side se) but mom ne kuch ni kaha tho maine kaha ki mom peticot bhi utar do mom ne mana kr dia maine kaha ki yeh dikkat karha hai main jaan bujh kar baccha bn rah tha maine kaha ki main bhi tho underwear main hoot ho mom ne peticot utar dia ab mom sirf penti main thi wow kya thai thi mom ki ab mom ne kaha ki la ab main tera bacha huarung utar deti hoo ab main neeche beth gya mom mere ko baccha samaj rahi thi tho us ne mere ko under wear utarne ko kaha main mom ko seduce karna chata tha tho maine use utar dia ab main nude tha aaj main chance karab nahi karna cha rha tha

Ab mere maann ka janwar jagne lug gya that ho maine mom ko kaha ki ab ab main naha lunga itni hi dr main supply ka pani aa gya jo 10-12 din se nahi aa rha tha pani bahut kam aa raha tha ab maine kaha mom ab main apko sabun lagata hoon so maine bhi mom ko baha ki mom aap bhi apna underwear utar do mom ne kaha ki buddhu iss ko panty kehte hai pehle mom ne mana kia pr maine doobara kaha th isshe utar di mom ki chut pe ek bhi baal nahi the( clean shave) ab humara rung uter chukka tha ab hum apne aap nahene lug gye the hum dono ek dusre ke samne baith gye the maine dekha ki mom ke maan main main bhi jaanwar jag raha hai but main ab koi dr nahi karna cha raha tha maine note kia ki mom baar baar mere lund ki taraf dekh rahi hai main baar baar mom ki chut ki taruf dekh raha tha ab maine apna lung khada kr lia aur ushe dabane lug gya om ne mere ko dekha tho main sumane luga but mom bhi ab kuch chati thi but pahel nahi karna cha rahi thi mom ne kaha kya hua

Main: kuch nahi
Mom: hath hatao yahan se (maine hath hata lia )mom mere lund ko dekh kr chonk gyi
Main : kya hua mom?
Mom: kuch nahi
Main : mom pta nahi susu ko kya ho gya!
Mom: beta yeh susu nahi hai yeh tho……………
Main : yeh tho………..kya mom

Mom : beta yeh lund hai ( mere lund 7-8 inch lumba aur 4 inch mota hai)
Main : mom apki susu ko kya kehte hai?
Mom: bête iss ko chut kehte hai?
Main: mom apki chut ko dekh sakta hoo ?
Mom : haa( pehle manna kia but mere jad karne par dikha di)
Main: mom touch kr sakta hoo? ( ab mom bhi meri batto main ane lgi thi)
Mom : haaa
Maine ushe touch kia tho mom ne ek sis kari li ahhhhhhhhh seeeeeeeee
Main : kya hua mom ?

Mom ne kaha kuch nahi beta bs aise hi ab maine mom ki chut ko rub kia mom ki sanse badhne lug gye aur mm hath hata dai
Main: kya hua mom?
Mom : yeh galat hai beta main teri maa hoo ( main ab moka nahi gawana chata tha )
Main : nahi maa kuch galat nahi hai ajj bs yeh chut hai aur yeh lund hai
Mom : tut ho sb janta hai tut ho aise hi bhola bn raha tha
Main : haa mom main sb janta hoo
Yeh keh kr main maa par kudh pada aur maine mom ko apni baho main jakad lia aur fir chut ko rub karne lug ga pehle mom ne virodh kia baad main mere ko bhe apni baho main jakad lia ab main mom ke boobs ko kiss karna suru kia aur ab niche aa kr chut ko chat ne lua gya ab mom bhi sath dene lug gye
Mom: beta yeh tera janam sathan hai iss se hi tu nikla tha

Main : mom ajj iss ko chodunga
Mom: beta tera lund tere papa se jyada mota aur lanba hai

Aur maine ab apne lund mo ke muh main de dia aur mom ushe chusne lug gye.ab maine lund nikala aur hum ander room mai aa gye maine mom ka bed pe lita dia aur us per let gya ab maine apne lund mom ki chut pe rakha aur ek jhatka mara tho mom chok gye( mom ki chut 4 saal se pyasi thi)ab main eek aur jhatka mara tho mom chatpatane lagi but mera aadha lund chut ke ander ja chukka tha main yahi ruk gya thodi der baad mom normal hui tb main ek jor ka jhatka mara tho pura lund ander jaa chukka tha mom ne mere ko apne bahoo main jakad lia mom ke mooh se awaj nikli uiiiiiiiiii ahhhhh
Ab main jhutke marne suru kie ab mom bhi mera sath se rahi thi mom ahhhhhhh uiiiiiiiiiiii seeeeeeeeeeeeeee ki awaj nikal rahi hai main ab janwar ki tareh mom ko chod raha tha ab maine mom ko kaha ki ab aap upper aa jao amin niche leth gya mom mere lund pr baith gye(mom behle ek baar pani chod chuki thi) mom mere lund par ab pure jos se kudh rahi thi mom ki chut bhi bahut time se pyasi thi thodi dr main mom nai pir pani chod dia

Main : mom ab aap kon se poj main chudna chati hai ?
Mom: mere ko doggy style mian chudna aacha lugta hai

Ab mom nai doggy poj lia aur maine piche sai chut main lund dal dia mom aiiiiiiiiiiiiiii uhhhhhhhhhhhhh seeeeeeeeeeeeeeeeee ohhhhhhhhhhhhhhhhh ahhhhhhhhhhhhh ahhhhhh
Ahhhhhhhhhhhhh ohhhhhhhhhhh Karen kug gue humari chudai 15 min ki ho chuki thi mom is doran 3 baar jhad chuki thi ab maine vhi speed badha di aur apna sara virya mom ki chut main chod dia aur mom ko piche se jakad lia pir hum ek dusre se alug ho gye agle din mom ne kaha ki tum ajj se mere pati ho aur main tumhari patni fir main mom ko roj chodta ta tha 2 month baad pta chala ki mom pregnant hai wo mere bacche ki maa ban ne wali hai maine mom ko abborson ke lie bola tho mom nai mna kr dia us ne kaha ki wo iss bacche ko janam dena chati hai fir hun ne wo gaon chodne ka plan bna lia hume papa kae loan ke 2 lakh rupee bhi mil gye thi aur hum ab U.P. jaa kr ek city main buss gye the maine mom ko kaha ki mom didi ko tho mom nai kaha ki mian ushe samja lungi fir mom didi ko mere se chudwa thi hai yeh ghatna baad main likhunga mom ne jan ,15 2012 ko ek bacchi ko janam dia aur didi 7 month se pregnant hai main ab dono ka pati hoo ab main unko naam se bolta hoo to dosto aap ko kaise lagi mari ghatna

मेरे भाई के दस दोस्त और मैं अकेली

मेरी प्यार की इच्छा उस दिन पूरी हो ही गई जब एक दिन मेरे मम्मी-पापा कुछ दिनों के लिए किसी रिश्तेदार के यहाँ गए हुए थे। मम्मी-पापा एक हफ्ते से पहले वापिस आने वाले नहीं थे। तभी भैया के पास उनके कुछ दोस्तों का फ़ोन आया, उन लोगों को मुंबई जाना था। लेकिन ख़राब मौसम  होने की वजह से उनकी उड़ान रद्द हो गई। तो भैया ने उन्हें अपने घर आने के लिए कह दिया।
सर्दी के दिन थे, भैया ने उन्हें कहा कि पूरी रात एअरपोर्ट पर कैसे  रहोगे, घर आ जाओ। वो लोग मान गए । वो दस लोग थे। भैया ने उन सबके खाने का इन्तज़ाम किया और उनका इंतज़ार करने लगे। तभी अचानक पापा का फ़ोन आया कि वो जिस रिश्तेदार के यहाँ गए थे उनकी  मृत्यु हो गई है और भैया को वहाँ आना पड़ेगा। भैया ने पापा को बताया कि उनके कुछ दोस्त घर पर आ रहे हैं तो पापा ने कहा कि उन्हें मानसी खाना खिला देगी। लेकिन तुम्हारा यहाँ आना ज़रूरी है। भैया ने अपने दोस्तों को फ़ोन कर दिया कि मुझे जाना पड़ेगा लेकिन मानसी घर पर है, तो तुम लोग आ जाओ और खाना खा कर यही आराम कर लेना। वो लोग राज़ी हो गए। जब वे सब घर पर आये तो मैं पहले तो थोड़ा घबरा गई कि मैं इनके साथ पूरे घर में अकेले कैसे करुँगी लेकिन भैया के दोस्त बहुत अच्छे थे और उन्होंने कहा कि  तुम आराम से बैठी रहो और बस हमें यह बता दो कि सब चीज़ें कहाँ हैं हम खुद ले लेंगे। उनमें से दो लोग रसोई में आ गए और बाकी सब कमरे में बैठ कर टी.वी  देखने लगे। मैंने उन्हें बता दिया लेकिन रसोई में उनके साथ ही खड़ी रही कि कहीं उन्हें किसी चीज़ की ज़रूरत न हो।
उनमें से एक का नाम सागर था। मैंने  महसूस किया कि वो जब से आया था तब से मुझे ही देखे जा रहा था और जब मैं उसे  देखती थी तो वो अपनी नज़रें मुझ पर से हटा कर कहीं और देखने लगता था । उसके बाद हम सबने साथ ही खाना खाया। फिर मैं अपने कमरे में सोने चली गई। उनमें से कुछ लोग मम्मी पापा के कमरे में लेट गए और कुछ भैया के कमरे में। मैं नीचे जाकर सो गई और अपने कमरे को अन्दर से बन्द कर लिया। थोड़ी देर के  बाद सागर नीचे आया और बोला- मानसी हमें नींद नहीं आ रही है, तुम कुछ फिल्म की सीडी निकाल कर दे दो हम देख लेंगे।
मैंने कहा- ठीक है। मैं उन्हें सीडी देने गई और सोचा कि नींद तो मुझे भी नहीं आ रही है तो मैं भी  इन लोगों के साथ बैठ जाती हूँ। मैं वहीं सागर की बगल में बैठ गई और थोड़ी देर में ही हम सबके बीच हंसी मजाक शुरू हो गया। तभी अचानक सागर ने मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया और मैं कुछ नहीं बोल पाई। सागर मेरी और ही देख रहा था कि तभी उसका एक दोस्त नितिन बोला- क्या बात है सागर ! जब से आये हो, मानसी को ही देख रहे हो ! अगर पसंद आ गई है तो शादी का प्रस्ताव रख दो। इसके भाई को हम मना ही लेंगे।
उसने कहा- ऐसा कुछ नहीं है।
वैसे उसका हाथ पकड़ना मुझे भी अच्छा लगा। सर्दी के दिन थे हम सब रजाई में बैठे थे इसलिए किसी को पता नहीं चला कि उसने मेरा हाथ पकड़ा है। लेकिन अचानक
उसे पता नहीं क्या हुआ कि वो मेरे होठों पर चूमने लगा। उसके सब दोस्त हैरान रह गए और मैं भी। मुझे कुछ समझ ही नहीं आया कि मैं क्या करूँ। पसंद तो वो भी मुझे पहली ही नज़र में आ गया था लेकिन मेरे दिल में यह डर बैठा था कि यह सब मेरे घर में पता चल गया तो क्या होगा। लेकिन उसे छोड़ने का मन मेरा भी नहीं कर रहा था। तभी नितिन ने भी पीछे से आकर मेरे स्तनों को दबाना शुरू कर दिया लेकिन मैंने झटके से उसे पीछे कर दिया और सागर को भी।
मैंने कहा- आप लोग यह सब क्या कर रहे हो।
तभी सागर ने कहा- मानसी हम सब आज की रात यहाँ हैं और हम चाहते हैं कि तुम पूरी रात हमारे साथ रहो। हम तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहते हैं।
मैंने कहा- पागल हो गए हो क्या तुम सब लोग? मेरे घर में पता चल गया तो पता नहीं क्या होगा।
उन्होंने कहा- हम तुम्हारे भाई को कभी पता नहीं चलने देंगे। हमारा विश्वास करो, आखिर वो हमारा दोस्त है।
मैं उन्हें मना करना चाहती थी कि तभी मैंने सोचा कि मेरा जो ग्रुप सेक्स करने
का सपना था वो आज सच हो सकता है।
वैसे भी ये दस लोग हैं मैं मना करुँगी तो यह मेरे साथ जबरदस्ती भी कर सकते हैं। तब मैं क्या करुँगी। इस से अच्छा है कि  खुद ही राज़ी हो जाऊं। शायद ऐसा मौका दुबारा न मिले और अगर इन्होने मेरे घर में बता भी दिया तो मैं यह कह सकती हूँ कि यह इतने सारे लोग थे इन्होंने मेरे साथ जबरदस्ती की थी। मैं अकेली क्या करती।
तभी सागर ने मुझे पूछा- क्या सोच रही हो मानसी, तुम तैयार हो ना?
मैंने उसे कुछ नहीं कहा और उसके होंठों पर चुम्बन करने लगी। वो समझ गए कि मैं तैयार हूँ।
सागर के साथ किस करने में बहुत मज़ा आ रहा था। 15 मिनट तक मैं उसे चूमती रही और मुझे कुछ भी होश नहीं था। जब मैं उससे अलग हुई तो नितिन ने आकर
मुझे चूमना शुरू कर दिया। उसके बाद उसके सभी दोस्तों ने मेरे साथ यही किया और ऐसे ही एक घण्टा बीत गया। उस वक़्त तक हम में से किसी ने भी अपने कपड़े नहीं
उतारे थे।
तभी सागर ने कहा- मानसी, तुम हम सबके कपड़े उतारो !
तो मैंने कहा- ठण्ड है ! नहीं होगा।
हमने रूम-हीटर चालू किया और उसके बाद मैंने एक एक करके उन सबके कपड़े उतार दिए।
तभी नितिन बोला- अब हम एक खेल खेलेंगे।
उसने कहा- मानसी दो दो मिनट के लिए सबके लण्ड चूसेगी और जिसका लंड ज्यादा जल्दी खड़ा होगा वही सबसे पहले चोदेगा। लेकिन मैं सबसे पहले सागर से चुदवाना चाहती थी। पता नहीं क्यूँ ! शायद वो मुझे पसंद था इसलिए।
उसके बाद मैंने एक एक करके सबके लण्डों को चूसना शुरू किया। मेरे साथ वही सब हो रहा था जो मैं करना चाहती थी। और आज मैं जी भर कर अपनी इच्छा को पूरा करना
चाहती थी। इतने सारे लंड एक साथ देख कर मैं पागल सी हो गई थी। मैंने जी भर कर सबके लौड़ों को चूसा और सागर के लंड को मैंने जब अपने मुँह में लिया तो उसे
बाहर निकालने का मन ही नहीं कर रहा था। मैंने सागर का लंड 15 मिनट के लिए चूसा जिससे वो भी पूरी तरह गर्म हो गया और उसने मेरे सर को पकड़ कर ऊपर किया,
मेरे होंठ जो उसके लंड के पानी से भीगे हुए थे उन्हें चूसने लगा और सबको कहा कि मानसी सबसे चुदवाएगी लेकिन अभी हमारे बीच कोई नहीं आएगा। सबने वैसा ही किया और सब हमें देखते रहे। मुझे शर्म आने लगी थी लेकिन सागर था कि मुझे छोड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था। 15 मिनट मेरे होंठ चूसने के बाद  उसने कहा- अब तुम अपने कपड़े उतारो, हम सब तुम्हारी चूत को चाटेंगे।
मैंने सागर से कहा- मेरी चूत पर तो बाल हैं।
उसने कहा- तुम फ़िक्र मत करो।
उसने अपने एक दोस्त को इशारा किया और वो अपने बैग में से रेज़र लेकर आया। सागर ने मुझे अपनी गोद में उठाया और मुझे बाथरूम में ले जा कर बाथ टब में  लिटा दिया। उसके बाद उसने मेरी टांगें फैला दी और मेरी चूत को गीला करके उस पर ढेर सारा साबुन लगा दिया। उसके बाद उसका एक दोस्त मेरी चूत के होठों को  खोलता जा रहा था और सागर बड़े प्यार से मेरी चूत के बाल साफ़ कर रहा था। सागर का एक दोस्त मेरे होंठों को चूस रहा था, एक मेरे वक्ष मसल रहा था और बाकी सब  वहीं खड़े होकर देख रहे थे। यह सब देख कर उनके लौड़े भी तनकर खड़े हो चुके थे। थोड़े बाल साफ़ करने के बाद सागर ने मेरी चूत को पानी से धोया और अपनी  जीभ मेरी चूत में डाल दी। मैं काँप उठी जैसे कोई करंट लगा हो। थोड़ी देर में जब उसने मेरी चूत पूरी तरह साफ कर दी तो उसके बाद नितिन मुझे  उठा कर कमरे में ले आया और लाकर मुझे बेड पर लिटा दिया। कमरे में लाते ही सागर मेरी टांगों के बीच आकर बैठ गया और चूत के दोनों होंठों को खोल कर देखने  लगा। मुझे शर्म आने लगी और मैंने अपना चेहरा अपने हाथों से ढक लिया।
तभी सागर बोला- क्या चिकनी बुर है। इसे तो मैं जी भर कर चूसूंगा उसके बाद चोदूंगा।
तब उसके सभी दोस्तों ने बारी बारी से मेरी चूत को चाटा। मैंने ऐसा पहले कभी महसूस नहीं किया था क्यूंकि सब के सब मेरे साथ कुछ ना कुछ कर रहे थे और मैं पागल सी होती जा रही थी।
अब सागर की बारी थी। सागर आकर मेरी टांगों के बीच बैठ गया था। इससे पहले मैं कम से कम तीन बार झड़ चुकी थी। सागर ने मेरी टांगों को उठा कर अपने कंधे पर रख लिया और मेरी चूत के होंटों को खोल दिया। उसके बाद सागर ने अपनी एक ऊँगली मेरी गांड में डाल दी और नीचे  झुक कर अपनी जीभ मेरी चूत के अन्दर। उसकी गरम जीभ अपनी चूत के अन्दर जाते ही मैं अन्दर तक सिहर गई। मुझे ऐसा लगने लगा कि मैं किसी स्वर्ग में घूम रही  हूँ। मेरी चूत को चाटते हुए सागर घूम गया और उसने अपना लौड़ा मेरे मुँह की तरफ कर दिया और कहा कि मैं उसे अपने मुंह में लूँ। मैंने जैसे ही उसका गर्म लंड अपने मुंह में लिया वैसे ही उसके बदन में भी एक  करंट सा लगा। अब हम 69 अवस्था में थे। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। लगभग आधे घंटे उसी अवस्था में रहने के बाद सागर मेरे ऊपर से हट गया। इस बीच मैं दो बार झड़ चुकी थी और सागर था कि झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था। सागर ने अपने दोस्तों से कहा- यार, बहुत अच्छा लौड़ा चूसती है, बहुत मस्त माल  है।
तभी उसके दोस्त ने कहा- फिर तो इसकी जी भर कर चुदाई करेंगे।
नितिन ने कहा- यार इतना मस्त माल है तो चोदने में मज़ा आ ही जायेगा और वो भी अपने मर्ज़ी से चुदवा रही है।
तभी मेरे दिमाग में ख्याल आया कि अगर मैं इनसे अपनी मर्ज़ी से चुदवाऊँ तो यह लोग बहुत आराम से चोदेंगे लेकिन मैं इस मौके का पूरा फायदा उठाना चाहती थी और
जबरदस्त चुदाई करवाना चाहती थी। इसलिए मैंने एक चाल चली। जब सागर मेरे ऊपर से हट कर अलग हुआ तो मैं उठ कर खड़ी हो गई और कहा- बस अब यह सब यहीं ख़त्म करो और मुझे जाने दो।
तभी नितिन ने कहा- जाती कहाँ है साली रंडी ! अभी तो तेरी चुदाई बाकी है।
मैंने कहा- मुझे छोड़ दो !
और मैं कमरे से बाहर जाने लगी कि तभी उसने मुझे खींच कर बिस्तर पर पटक दिया। मैंने सागर की तरफ देखा तब मैंने महसूस किया कि उसे भी शायद यह सब अच्छा नहीं
लग रहा और वो भी नहीं चाहता कि यह सब हो लेकिन अब हम कुछ नहीं कर सकते थे।अगर वो अपने दोस्तों को मना भी करता तो कोई उसकी बात नहीं सुनता और सब मेरे
साथ जबरदस्ती करते। जबरदस्ती तो वो लोग अब भी कर ही रहे थे क्यूंकि मैं भी यही चाहती थी।
मैंने नितिन से कहा- प्लीज़, मुझे जाने दो !
लेकिन उसने मेरी एक नहीं सुनी और मेरे पास आकर बैठ गया। मैंने उठने की कोशिश की लेकिन तभी उनके दोस्तों ने मेरे हाथ और मेरे पांव पकड़ कर मुझे पूरी तरह
जकड लिया और सागर आकर मेरे स्तनों को मसलने और दबाने लगा। नितिन गन्दी गन्दी गालियाँ देने लगा। साली रंडी दस-दस लोगों से चुदवाने को तैयार है और सीधी
बनने की कोशिश करती है। आज देख तेरी ऐसी चुदाई होगी रंडी कि तू सारी ज़िन्दगी याद रखेगी। तेरी चूत का भोसड़ा बनायेंगे आज। ऐसा चोदेंगे कि दुबारा किसी से
चुदने से पहले दस बार सोचेगी।
मैं समझ गई थी कि सब लोग गरम हो चुके हैं और मैं भी अपनी चूत में लंड लेने को बेकरार थी। सागर मेरे ऊपर लेट कर मेरे होंठों को चूसने लगा और मम्मों को
दबाने लगा। मेरे हाथ और पैर तो उसके दोस्तों ने पकड़ रखे थे। इसलिए मैं हिल भी नहीं पा रही थी। तभी सागर सीधा होकर मेरी चूत के पास घुटनों के बल बैठ गया
और मेरी टांगें फैला कर ऊपर की ओर कर दी। उसका एक दोस्त मेरे होंठों को चूसने लगा और नितिन मेरे मम्मों को मसलने लगा। मेरे मम्मों में भी दर्द हो रहा था।
तभी सागर ने अपना नौ इंच लम्बा लंड मेरी चूत पर रखा और एक ही झटके में पूरा का पूरा लंड मेरी चूत को चीरता हुआ अन्दर जड़ तक चला गया। मुझे सबने इतने कस
कर पकड़ रखा था कि मैं हिल भी नहीं पा रही थी। जैसे ही उसने अपना लंड मेरी चूत में डाला, मैं दर्द के मारे तड़प उठी और हिल ना पाने की वजह से अन्दर ही  तड़प कर रह गई। होंठ भी एक लड़के ने अपने होंठों से बंद कर रखे थे तो आवाज़ भी नहीं निकल पा रही थी। दर्द की वजह से मेरी आँखों में आंसू आ गए जिसे देख कर सागर को दुःख हुआ और वो अपना लंड बाहर निकालने लगा। मैंने इशारे से उसे मना कर दिया। वो थोड़ी देर के लिए रुक गया। और जब दर्द  कुछ कम हुआ तो उसने धीरे धीरे धक्के मारने शुरू किये।
अब मुझे भी मज़ा आने लगा था तो मैं भी सागर का पूरा साथ देने लगी। मैंने उन्हें अपने हाथ और पैर  छोड़ने को कहा। और दो लड़कों के लौड़ों को अपने हाथों में लेकर उनकी मुठ मारने लगी। नितिन का लंड मेरे मुंह में था। दो लड़के मेरे मम्मों को पकड़ कर  मसलने लग गए और बाकी सब अपनी अपनी जीभ मेरे पूरे बदन पर रगड़ रहे थे। मेरा
पूरा बदन एक साथ चुद रहा था। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। करीब आधे घंटे चुदाई करने के बाद सागर ने सबको कहा- अब सब झड़ने के लिए तैयार हो जाओ।
मैंने उन सबसे कहा- अपने लौड़ों का पानी मेरे ऊपर डाल दो और सागर से कहा कि तुम मेरी चूत के अन्दर ही झाड़ना।
सागर ने वैसे ही किया। करीब 5 मिनट के बाद चारों लड़के (सागर, नितिन) और जिनके लंड मेरे हाथ में थे, एक साथ झड़े और सबने अपना पानी मेरे ऊपर डाल
दिया। सागर का गरम वीर्य मैं अपनी चूत में महसूस कर रही थी। मुझे बहुत अच्छालग रहा था।
Group Love
उसके बाद बाकी सबने भी मुझे बारी बारी से चोदा। उस पूरी रात में मेरी बारह बार चुदाई हुई। बाकी सबने एक एक बार और सागर और नितिन ने मुझे दो-दो बार
चोदा। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। उसके बाद सबने बाथरूम में जाकर अपने लौड़ों को साफ़ किया और सुबह के छः बजे जाकर कमरे में सो गए। लेकिन मैं इतनी जबरदस्त
चुदाई के बाद उठने की भी हिम्मत नहीं कर पा रही थी। तब सागर ने कहा- मानसी, तुम यहीं रहो, मैं आता हूँ।
और उसके बाद वो बाथरूम में जाकर बाथटब में गरम पानी भर कर आया। और मुझे अपनी गोद में उठा कर बाथरूम में ले गया। उसने जाकर मुझे टब में लिटा दिया और मेरी
चूत को हल्के हाथ से सहलाने लगा। इससे मेरी चूत को बहुत आराम मिल रहा था। मेरी पूरी चूत बुरी तरह से लाल थी और बहुत दर्द हो रहा था। उसके बाद सागर ने
मुझे लाकर बिस्तर पर लिटाया। और मेरे बदन को पोंछा जिससे मुझे बहुत आराम मिल रहा था। तभी सागर आकर मेरे पास लेट गए और मुझे रजाई में लेकर अपने साथ चिपका लिया। मुझे उसकी बाहों में एक सुकून सा मिला। जिस इंसान की कमी मैं अपनी ज़िन्दगी में महसूस करती थी, लगा कि सागर उस कमी को पूरा कर सकता है। लेकिन
यह बात मैं उसे कैसे कहती। उसके सामने ही उसके दोस्तों से चुदी हूँ। तब सागर ने मेरे चेहरे को अपने हाथों में लिया और कहा- मानसी, मुझे माफ़ कर
दो। आज तुम्हारे साथ जो भी हुआ उसका जिम्मेदार मैं ही हूँ। ना मैं शुरुआत करता और ना तुम्हारे साथ यह सब होता। लेकिन मैं सच में तुम्हें पसंद करने लगा
हूँ। मैं जानता हूँ कि तुम यही सोच रही होगी कि तुम्हारे साथ ऐसा करने के बाद भी मैं यह सब कह रहा हूँ। लेकिन ये सच है मानसी। मैं तुम्हें पसंद करता हूँ
और तुमसे शादी करना चाहता हूँ। तुम्हारे भाई के वापिस आते ही मैं उससे तुम्हारा हाथ मांगूंगा
Group Love
और मैं भी उसकी बात को स्वीकार करते हुए उसके कंधे पर सर रख कर लेट गई। नींद कब आई पता ही नहीं चला। जब नींद खुली तो सुबह के 11 बज रहे थे। मैंने जल्दी से उठ कर कपड़े पहने। सब लोग नहा कर तैयार हो गए। पूरा बदन रात की चुदाई से दर्द कर रहा था। लेकिन इस दर्द में उस प्यार का एहसास भी था जो मुझे सागर से मिला था। उसके बाद मैंने सब के लिए चाय बनाईं। सब लोग चाय पीकर निकल गए और जाते जाते सागर ने मुझसे कहा कि मैं उसका इंतज़ार करूँ, वो मुझे लेने आएगा। उसकी बात पर यकीन भी था लेकिन मन में शक भी था। उसके बाद दो साल तक सागर की कोई खबर नहीं आई। ना ही  भाई से पूछने की हिम्मत थी उसके बारे में।
तब तक मेरी पढ़ाई भी ख़त्म हो चुकी थी। घर में मेरी शादी की बातें होने लगी थी। लेकिन मुझे तो सागर का इंतज़ार था। कभी कभी लगता कि अगर उसे आना ही होता
तो क्या वो इन दो सालों में मुझसे मिलने की बात करने की कोशिश नहीं करता।लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ इसका मतलब उसने जो कहा शायद वो सब मुझे दिलासा देने
के लिए कहा था। मैंने घर वालों को शादी के लिए हाँ कह दी और कहा कि वो जिसे भी मेरे लिए पसंद करेंगे मैं उसी से शादी कर लूंगी।
एक दिन मम्मी ने बताया कि मुझे देखने लड़के वाले आ रहे हैं। मन में एक अजीब सा डर समाया हुआ था और सागर की बातें भी दिमाग में घूम रही थी। जब लड़के वाले
आ गए तो मुझमें हिम्मत ही नहीं थी कि एक नज़र उठा कर उस लड़के को देखूं। यह शादी तो वैसे भी मैं घर वालों की ख़ुशी के लिए कर रही थी। मैं जाकर कमरे में
बैठ गई। थोड़ी देर इधर उधर कि बातें होती रही। लेकिन मैंने एक नज़र उठाकर उस लड़के की ओर एक बार देखा तक नहीं क्यूंकि मुझे सिर्फ सागर का इंतज़ार था। जब
मैं उन लोगों के सामने गई तो लड़के की माँ बोली- हमें आपकी बेटी पसंद है। मैंने सोचा- बिना कुछ पूछे बिना कुछ जाने एक ही नज़र में पसंद कर लिया।
तब लड़के की मम्मी ने कहा- दोनों को एक दूसरे से बात कर लेने दो। मेरी तो सांस ही अटक गई। क्या बात करुँगी, कैसे करुंगी। तब मेरी बहन हमे ऊपर
वाले कमरे में ले गई। मैंने अब तक एक बार भी नज़र उठा कर उस लड़के की ओर नहीं देखा था क्यूंकि यह शादी मेरी मर्ज़ी नहीं मजबूरी थी। कमरे में आने के बाद
बहन बाहर चली गई। मैं और वो लड़का बैठ गए।
तब उसने मुझसे कहा- क्या बात है, आप मेरी तरफ देखेंगी नहीं? आवाज़ जानी-पहचानी सी लगी। चेहरा उठा कर ऊपर देखा तो वो सागर ही था। मैं एक  दम से खड़ी हो गई और उसे देखती ही रही। मुँह से एक भी शब्द नहीं निकला और उसने सिर्फ इतना ही कहा- मानसी, मैंने जो वादा किया था उसे पूरा करने आया हूँ।
उसे देख कर मेरे दिल में जो ख़ुशी थी वो मेरी आँखों में साफ़ दिखाई दे रही थी। लेकिन उसके साथ ही आंसू भी थे। मैंने कहा- अब तुम्हें याद आई मेरी ? दो  साल मैंने कैसे बिताए, जानते हो?
उसने बस इतना कहा- दो साल बाद मिल रही हो, गले भी नहीं लगोगी क्या?
मैं उसके गले लग गई और रो पड़ी। उसने कहा- क्या हुआ? रो क्यूँ रही हो? मैंने कहा- इतने दिनों के बाद आये हो, यह भी नहीं सोचा कि मेरा क्या हाल
होगा। तुमने तो कहा था कि भाई के आते ही उससे बात करोगे। तो उसने कहा- मानसी, जब मैं तुमसे मिला था, उस वक़्त मेरी नौकरी बिल्कुल नई थी, जीवन में स्थापित होने के बाद ही तो तुम्हारे भाई से तुम्हारा हाथ मांगता। पहले मांग लेता तो वो मना कर देता। आज उसे पता है कि मैं अपनी  जिन्दगी में सुस्थपित हूँ और तुम्हें खुश रख सकता हूँ इसलिए वो भी मेरे एक ही बार कहने पर मान गया। और इसलिए आज मैं अपने मम्मी पापा को तुम्हारे घर लेकर  आया हूँ तुम्हारा हाथ मांगने। और तुम्हारे घर वालों ने इसलिए कुछ नहीं बताया था क्यूंकि मैं तुम्हें आश्चर्य-चकित कर देना चाहता था। अगर तुम्हें पहले पता  होता तो मैं तुम्हारे चेहरे के वो भाव ना देख पाता जो मेरी आवाज़ सुनकर तुम्हारे चेहरे पर थे।
मैं उसे कुछ नहीं कह पाई और उसके गले लग गई। आज मैं बहुत खुश हूँ।

क्या प्यारी चूत है तुम्हारी

दोस्तो, मेरा नाम अंकिता है।
आज मैं आपको अपने पापा के शराब पीने के बुरी आदत और उससे होने वाली अपने परिवार की बर्बादी की कहानी सुनाना चाहती हूँ।
हमारे परिवार में मैं, मेरे पापा सुकेश और मेरी माँ कविता हैं, हम करनाल, हरियाणा में रहते हैं, पापा का प्रॉपर्टी डीलिंग का बिज़नस है।
काम अच्छा चल रहा था तो सब ठीक था, पापा के बहुत से दोस्त थे जिनके साथ पापा अक्सर खाते पीते थे।
पर 2012 के बाद पापा का बिजनेस डूबना शुरू हो गया।
तब मैं दसवीं क्लास में पढ़ती थी।
पापा ने बहुत कोशिश की पर उनका बिजनेस ठीक से नहीं चला।
जिस वजह से पापा बहुत परेशान रहने लगे, और परेशानी में और शराब पीने लगे।
2013 और 2014 में तो पापा ने बहुत से लोगो से पैसा उधर लेकर या कर्ज़ लेकर काम शुरू करने की बहुत कोशिश की पर कोई फायदा नहीं हुआ।
इस कारण पापा के बहुत से दोस्त भी उनका साथ छोड़ गए, रिश्तेदारों ने भी मुँह मोड़ लिया।
मगर पापा ने शराब की लत नहीं छोड़ी।
एक दिन पापा के दो दोस्त शर्माजी और गुप्ताजी शाम को हमारे घर आए, वो अपने साथ शराब की दो बोतलें और खाने का सामान ले कर आए थे।
जब उन्होने पापा के साथ पीनी शुरू कर दी तो माँ ने मुझे दूसरे कमरे में भेज दिया।
दोनों कमरों के बीच में एक जाली का दरवाजा था जिसे मैंने अंदर से लॉक कर लिया पर मुझे बाहर सब दिख रहा था।
पापा उनके साथ दारू पी रहे थे और माँ उनके लिए खाने का सामान बना बना के दे रही थी।
जब दारू का सुरूर चढ़ने लगा तो उन दोनों हरामियों की निगाह मेरी माँ पर ही टिकी हुई थी।
वो दोनों आती-जाती मेरी माँ के बदन को अपनी निगाहों से टटोल रहे थे।
पापा तो पी पी के टल्ली हुये पड़े थे, उनको तो कोई होश ही नहीं था।
तब शर्माजी ने माँ को अपने पास बुलाया और झूठ मूठ की हमदर्दी दिखाने लगे।
बातों बातों में शर्मजी ने माँ के कंधे पे हाथ रखा जिसका माँ ने कोई विरोध नहीं किया, तो उन्होने धीरे धीरे अपने हाथ से माँ की पीठ सहलानी शुरू की।
मैं यह देख कर हैरान थी कि माँ उसकी इस हरकत का विरोध क्यों नहीं कर रही!
और देखते देखते शर्माजी ने माँ को अपनी आगोश में ले लिया और माँ ने भी उनके कंधे पे अपना सर टिका दिया।
तभी गुप्ताजी उठे और माँ के दूसरी तरफ आ कर बैठ गए।
और उन्होंने बैठते ही माँ के ब्लाउज़ में हाथ डाल दिया।
बस फिर तो दोनों माँ के ऊपर टूट पड़े।
एक मिनट में ही उन दोनों ने माँ की साड़ी, ब्लाउज़, ब्रा और पेटीकोट उतार फेंका।
माँ को नंगी करने के बाद उन दोनों ने भी अपने कपड़े उतारे और माँ से चिपक गए, कोई उसके बूब्स चूस रहा था, कोई उसकी चूत में उंगली कर रहा था।
बेड की एक तरफ पापा दारू पी कर बेहोश लेटे पड़े थे और दूसरी तरफ माँ को वो दो वहशी चिपटे हुए थे।
दोनों ने जम कर माँ से सेक्स किया, मैं सारा कुछ अपने कमरे में लेटी देख रही थी।
बेशक मुझे यह अच्छा नहीं लग रहा था, पर हूँ तो मैं भी इंसान, थोड़ी देर बाद मेरा भी मन करने लगा, मैंने अपनी स्कर्ट ऊपर उठाई, पेंटी उतरी और अपनी उंगली से अपनी चूत को मसलने लगी, मैं भी चाहती थी को दोनों में से कोई मेरे पास भी आए और मुझे भी चोदे।
पर उन दोनों ने सिर्फ माँ से किया।
थोड़ी देर बाद मेरा तो पानी छुट गया और मैं करवट बदल कर सो गई, वो कब गए, मुझे नहीं पता।
अब तो यह रोज़ का ही काम हो गया था।
पापा का कोई दोस्त आता, पापा को खूब शराब पिलाता और उसके बाद माँ से सारा खिलाया पिलाया वसूल करता।
हर दूसरे या तीसरे दिन शर्माजी या गुप्ता जी में से कोई न कोई माँ को को पकड़ लेता।
अब तो माँ भी पूरी खुलने लगी, वो भी पापा और उनके दोस्तो के साथ एक आध पेग मार लेती।
उसके बाद सेक्स का नंगा नाच होता, उधर माँ लण्ड लेती और इधर अपने कमरे में मैं अपनी उंगली लेती।
माँ मुझे बड़ी एहतियात से उस सब से छुपा कर रख रही थी, मुझे कभी भी उनके सामने नहीं आने देती।
मगर बकरे के माँ कब तक खैर मनाती।
एक दिन दोपहर को मैं स्कूल से आकार खाना खाकर बेड पे लेट गई, टीवी देखते देखते मुझे नींद आ गई।
थोड़ी देर बाद मुझे लगा जैसा कोई मेरे बदन को सहला रहा है।
मेरी नींद खुल गई।
मैंने देखा कि शर्मा अंकल ने मेरी स्कर्ट सारी ऊपर उठा रखी थी और वो पेंटी के ऊपर से मेरी चूत सहला रहे थे।
पहले तो मैं एकदम से घबरा गई, पर वो बोले- अरे गुड़िया बेटी उठ गई, डोंट वरी, मैं हूँ, आराम से लेटी रहो, तुम बहुत एंजॉय करोगी।
मैंने पूछा- माँ?
वो बोले- वो गुप्ता जी के साथ दूसरे कमरे में है, और मज़े कर रही है, तुम भी मज़ा लेना चाहोगी?
मैं तो खुद मरी जा रही थी यो मैंने हाँ में सर हिलाया।
बस फिर तो शर्माजी ने झट से मेरी पेंटी उतार दी।
तब मेरी चूत पे हल्के हल्के बाल आ गए थे।
‘ओह माइ गॉड, क्या कमसिन और प्यारी चूत है तुम्हारी!’
यह कह कर उन्होंने अपना पूर मुँह खोला और मेरी छोटी सी प्यारी चूत को पूरा अपने मुँह में ले लिया जैसे खा ही जाएँगे।
उसके बाद उन्होने अपनी पूरी जीभ मेरी चूत की लकीर पर फेरी और अपनी जीभ मेरी चूत के अंदर तक डाल कर चाटने लगे।
मैं तो जैसे तड़प उठी, मैंने साइड पे देखा, पापा दारू पी के धुत्त हुये पड़े थे, उन्हें कोई होश नहीं था कि साथ वाले कमरे में उनकी बीवी चुद रही है और उनके बिल्कुल साथ उनकी बेटी भी अपना कौमार्य लुटवाने वाली है।
मेरी छोटी प्यारी चूत चाटते चाटते शर्माजी ने मेरे शर्ट के बटन खोले और एक एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिये।
मैंने अपनी टाँगों को उनके सर के अगल बगल लपेटा हुआ था, मेरी आँखें बंद थी और मैं अपनी प्यारी चूत चटवाने का भरपूर आनन्द ले रही थी।
तभी शर्माजी उठे और उन्होने अपने भी सारी कपड़े उतार दिये और लण्ड मेरी तरफ करके बोले- चूसेगी इसे?
मैंने ना में सर हिलाया।
तो उन्होने कहा- कोई बात नहीं, ऊपर वाले होंठों से नहीं तो नीचे वाले होंठो में ले ले!
यह कह कर उन्होंने मुझे सीधा किया और अपना लण्ड मेरी प्यारी चूत पे सेट किया।
मैं आने वाले खतरे से बेखबर अपनी टाँगें उठा कर उनके नीचे लेटी थी।
शर्माजी ने अपने लण्ड पे ढेर सारा थूक लगाया, और मेरी चूत पर दोबारा सेट करके मुझे बड़ी अच्छी तरह से अपनी आगोश में जकड़ लिया।
मेरे होंठों को अपने होंठों में ले लिया और फिर अपना लण्ड मेरी प्यारी चूत में घुसेड़ने लगे।
जिस काम को मैं मज़े का समझ रही थी वो तो बहुत दर्दनाक निकला, मुझे लगा जैसे कोई मेरे जिस्म को बीच में से चीर रहा हो, या एक गरम लोहे के सलाख मेरे जिस्म से आर पार निकल रही हो।
मैं तो दर्द से तड़प उठी, मैं छटपटाना चाहती थी पर शर्मा अंकल ने मुझे बड़ी मजबूती से जकड़ रखा था।
मेरे तड़पने पर उन्होने और ज़ोर लगाना शुरू कर दिया और मेरी कुँवारी प्यारी चूत को बीच में से चीरते हुये उन्होने अपना आधे से ज़्यादा लण्ड मेरे बदन में घुसेड़ दिया।
अब दर्द मेरी बर्दाश्त से बाहर था और मैं चीख पड़ी।
मेरी चीख सुनते ही माँ दूसरे कमरे से भागी भागी आई, माँ जल्दबाज़ी में वो जैसे थी वैसे ही आ गई, यानि कि बिल्कुल नंगी अवस्था में !
पीछे पीछे गुप्ता अंकल भी आ गए वो भी बिल्कुल नंगे।
मगर जब तक माँ आती और सब समझती, शर्मा अंकल ने अपना पूरा लण्ड मेरे अंदर प्रविष्ट करवा दिया था।
माँ ने एकदम से शर्मा अंकल को खींच के पीछे फेंका, मगर तब तक तो चूत के उदघाटण की सारी कार्यवाही हो चुकी थी, मेरी चूत खून से लथपथ थी, शर्मा अंकल के लौड़े पर भी खून लगा था।
माँ ने शर्मा अंकल को बहुत भला बुरा कहा, मगर अब क्या हो सकता था।
शर्मा अंकल और गुप्ता अंकल दोनों ने अपने कपड़े पहने और चले गए।
मैं और माँ दोनों नंगी हालत में ही एक दूसरे से लिपट के कितनी देर रोती रहीं।
मैं दर्द की वजह से और माँ पता नहीं क्यों।
दो तीन दिन कोई हमारे घर नहीं आया, उसके बाद एक दिन गुप्ता अंकल आए और हम सब के लिए खूब तोहफे और ना जाने क्या क्या लाये।
उसके बाद फिर वही दारू का दौर शुरू हो गया।
जब पापा फिर पी कर लुढ़क गए तो गुप्ता अंकल ने माँ के सामने खुल्लम खुल्ला कहा- देख कविता, तू तो चल है ही हमारी, पर जो शर्मा ने कर दिया, उसको तो ठीक किया नहीं जा सकता, पर अगर तू चाहे तो हम तेरा घर मोतियों से भर देंगे, मगर एक शर्त है।
चाहे माँ उनकी बात का मतलब समझ गई थी, पर ‘क्या शर्त है?’ माँ ने पूछा।
‘अब तेरे साथ साथ अंकिता को भी अपने ग्रुप में शामिल कर लेते हैं, वो भी अब जवान हो चुकी है, उसको भी ज़िंदगी जीने का हक़ है।’
उस दिन पहली बार माँ ने मुझे अपने कमरे में बुलाया और तब गुप्ता अंकल में मुझे अपनी गोद में बिठाया और बहुत प्यार किया।
मगर अब मैं भी समझती थी के इस प्यार का मतलब क्या है।
आधे घंटे बाद मैं, माँ और गुप्ता जी तीनों बिल्कुल नंगे एक दूसरे को चूम चाट रहे थे।
थोड़ी देर बाद गुप्ताजी ने फोन करके शर्माजी को भी बुला लिया ताकि जो काम उस दिन अधूरा रह गया था वो पूरा हो सके।
आज इस बात को 5 साल हो गए हैं, पापा की शराब पीने की बुरी आदत की वजह से मैं और माँ दोनों इस गंदे काम में उतरी और अब प्रोफेशनली इस काम को कर रही हैं।
 

मम्मी और दीदी के बिस्तर में

मेरे घर में मैं, मेरी माँ, मेरी पत्नी और मेरी बहन है। मेरी बहन की शादी हो चुकी है और वो अपने ससुराल में रहती है। मैं अपनी माँ और पत्नी के साथ यहाँ हैदराबाद में रहता हूँ।
मेरी उम्र 28 साल की है और मेरी पत्नी 24 की है.. मेरी सास और मेरी साली अभी भी बनारस के पास एक गाँव में रहते हैं और वे लाग साल में 2-3 महीने हमारे यहाँ बिताती हैं। सच पूछो तो दोस्तों.. मेरा घर एक स्वर्ग है.. जहाँ किसी भी तरह की कोई मनाही नहीं है।
मैं आप को शुरू से ही ये सारी बातें बताता हूँ।
ये बातें मेरे बचपन की हैं.. घर पर मेरी माँ, मेरी दीदी और मैं सब साथ रहते थे।
मेरी उम्र करीब 18-19 के आस-पास थी.. मेरी लंबाई 5’7” की है।
मेरी दीदी की उम्र 22 साल की थी.. उसकी स्पोर्ट्स में रूचि थी और वो स्टेडियम जाती थी।
मेरी माँ टीचर है.. उसकी उम्र 37-38 की होगी.. मगर देखने में किसी भी हालत में 31-32 से ज्यादा की नहीं लगती थी। माँ और दीदी एकदम गोरी हैं। माँ मोटी तो नहीं.. लेकिन भरे हुए शरीर वाली थीं और उनके चूतड़ चलने पर हिलते थे।
उनकी शादी बहुत जल्दी हो गई थी। मेरी माँ बहुत ही सुंदर और हँसमुख है.. वो जिंदगी का हर मज़ा लेने में विश्वास रखती हैं।
हालाँकि वो सबसे नहीं खुलती हैं.. पर मैंने उसे कभी किसी बात पर गुस्साते हुए नहीं देखा है।
ये बात उस समय कि जब मैं स्कूल में पढ़ता था और हर चीज को जानने के बारे में मेरी जिज्ञासा बढ़ रही थी.. ख़ासतौर से सेक्स के बारे में..
मेरे स्कूल के दोस्त अक्सर लड़की पटा कर मस्त रहते थे। उन्हीं में से दो-तीन दोस्तों ने अपने परिवार के साथ सेक्स की बातें भी बताईं.. तो मुझे बड़ा अज़ीब लगा। मैंने माँ को कभी उस नज़र से नहीं देखा था.. पर इन सब बातों को सुन-सुन कर मेरे मन में भी जिज्ञासा बढ़ने लगी और मैं अपनी माँ को ध्यान से देखने लगा। चूँकि गर्मियों की छुट्टियाँ चल रही थीं और मैं हमेशा घर पर ही रहता था।
घर में मैं माँ के साथ ही सोता था और दीदी अपने कमरे में सोती थीं। माँ मुझे बहुत प्यार करती थीं।
माँ, दीदी और मैं आपस में थोड़ा खुले हुए थे.. हालाँकि सेक्स एंजाय करने की कोई बात तो नहीं होती थी.. पर माँ कभी किसी चीज का बुरा नहीं मानती थीं और बड़े प्यार से मुझे और दीदी को कोई भी बात समझाती थीं।
कई बार अक्सर उत्तेजना की वजह से जब मेरा लंड खड़ा हो जाता था और माँ की नज़र उस पर पड़ जाती.. तो मुझे देख कर धीरे से मुस्कुरा देतीं और मेरे लंड की तरफ इशारा करके पूछतीं- कोई परेशानी तो नहीं है?
मैं कहता, “नहीं..”
तो वो कहतीं- पक्का.. कोई बात नहीं..?
मैं भी मुस्कुरा देता.. वो खुद कभी-कभी हम दोनों के सामने बिना शरमाए एक पैर पलंग पर रख कर साड़ी थोड़ा उठा देतीं और अन्दर हाथ डाल कर अपनी बुर खुजलाने लगतीं।
नहाते समय या हमारे सामने कपड़े बदलते वक़्त.. अगर उसका नंगा बदन दिखाई दे रहा हो.. तो भी कभी भी शरीर को ढँकने या छुपाने की ज़्यादा कोशिश नहीं की..
ऐसा नहीं था कि वो जानबूझ कर दिखाने की कोशिश करती हों.. क्योंकि इन सब बातों के बाद भी मैंने उसकी या दीदी की नंगी बुर नहीं देखी थी। बस वो हमेशा हमें नॉर्मल रहने को कहतीं और खुद भी वैसे ही रहती थीं। धीरे-धीरे मैं माँ के और करीब आने की कोशिश करने लगा और हिम्मत करके माँ से उस वक़्त सटने की कोशिश करता.. जब मेरे लंड खड़ा होता।
मेरा खड़ा लंड कई बार माँ के बदन से टच होता.. पर माँ कुछ नहीं बोलती थीं।
इसी तरह एक बार माँ रसोई में काम कर रही थीं और माँ के हिलते हुए चूतड़ देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया। मैंने ने अपनी किस्मत आज़माने की सोची और भूख लगने का बहाना करते हुए रसोई में पहुँच गया।
माँ से बोला- माँ भूख लगी है.. कुछ खाने को दो।
और ये कहते हुए माँ से पीछे से चिपक गया.. मेरा लंड उस समय पूरा खड़ा था और मैंने अपनी कमर पूरी तरह माँ के चूतड़ों से सटा रखी थी.. जिसके कारण मेरा लंड माँ के चूतड़ों के बीच थोड़ा सा घुस गया था।
माँ हँसते हुए बोलीं- क्या बात है आज तो मेरे बेटे को बहुत भूख लगी है..
“हाँ माँ.. बहुत ज्यादा.. जल्दी से मुझे कुछ दो”
और मैंने माँ को और ज़ोर से पीछे से पकड़ लिया और उनके पेट पर अपने हाथों को कस कर दबा दिया। कस कर दबाने की वज़ह से माँ ने अपने चूतड़ थोड़ी पीछे की तरफ किए.. जिससे मेरा लंड थोड़ा और माँ के चूतड़ों के बीच में घुस गया। उत्तेजना की वज़ह से मेरा लंड झटके लेने लगा.. पर मैं वैसे ही चिपका रहा और माँ ने हँसते हुए मेरी तरफ देखा.. पर बोलीं कुछ नहीं…
फिर माँ ने जल्दी से मेरा खाना लगाया और थाली हाथ में लेकर बरामदे में आ गईं।
मैं भी उसके पीछे-पीछे आ गया.. खाना खाते हुए मैंने देखा.. माँ मुझे और मेरे लंड को देख कर धीरे-धीरे हँस रही थीं।
जब मैंने खाना खा लिया तो माँ बोलीं- अब तू जाकर आराम कर.. मैं काम कर के आती हूँ।
पर मुझे आराम कहाँ था.. मैं तो कमरे में आ कर आगे का प्लान बनाने लगा कि कैसे माँ को चोदा जाए.. क्योंकि आज की घटना के बाद मुझे पूरा विश्वास था कि अगर मैं कुछ करता भी हूँ.. तो माँ अगर मेरा साथ नहीं देगीं.. तो भी कम से कम नाराज़ नहीं होंगी।
फिर ये ही हरकत मैंने 5-6 बार की और माँ कुछ नहीं बोलीं.. तो मेरी हिम्मत बढ़ गई।
एक रात खाना खाने के बाद मैं कमरे में आकर लाइट ऑफ करके सोने का नाटक करने लगा.. थोड़ी देर बाद माँ आईं और मुझे सोता हुआ देख कर थोड़ी देर कमरे में कपड़े और सामान ठीक किया और फिर मेरे बगल में आकर सो गईं।
करीब एक घंटे के बाद जब मुझे विश्वास हो गया कि माँ अब सो गई होगीं.. तो मैं धीरे से माँ की ओर सरक गया और धीमे-धीमे अपना हाथ माँ के चूतड़ों पर रख कर माँ को देखने लगा।
जब माँ ने कोई हरकत नहीं की.. तो मैं उनके चूतड़ों को सहलाने लगा और उनकी साड़ी के ऊपर से ही दोनों चूतड़ों और गाण्ड को हाथ से धीमे-धीमे दबाने लगा। जब उसके बाद भी माँ ने कोई हरकत नहीं की तो मेरी हिम्मत थोड़ा और बढ़ी और मैंने माँ की साड़ी को हल्के-हल्के ऊपर खींचना शुरू किया।
साड़ी ऊपर करते-करते जब साड़ी चूतड़ों तक पहुँच गई.. तो मैंने अपना हाथ माँ के चूतड़ों और गाण्ड के ऊपर रख कर.. थोड़ी देर माँ को देखने लगा.. पर माँ ने कोई हरकत नहीं की।
फिर मैं अपना हाथ उनकी गाण्ड के छेद से धीरे-धीरे आगे की ओर करने लगा, पर माँ की दोनों जाँघें आपस में सटी हुई थीं.. जिससे मैं उन्हें खोल नहीं पा रहा था।
फिर मैंने अपनी दो ऊँगलियां आगे की ओर बढ़ाईं तो मेरी साँस ही रुक गई।
मेरी ऊँगलियां माँ की बुर के ऊपर पहुँच गई थीं।
फिर मैंने धीरे-धीरे अपनी ऊँगलियों से माँ की बुर सहलाने लगा.. माँ की बुर पर बाल महसूस हो रहे थे।
चूँकि मेरे लंड पर भी झांटें थीं तो मैं समझ गया कि ये माँ की झांटें हैं। इतनी हरकत के बाद भी माँ कुछ नहीं कर रही थीं.. तो मैंने धीरे से अपनी पूरी हथेली माँ की बुर पर रख दी और बुर के दोनों होंठों को एक-एक कर के छूने लगा.. तभी मुझे महसूस हुआ कि माँ की बुर से कुछ मुलायम सा चमड़े का टुकड़ा लटक रहा है।
जब मैंने उसे हल्के से खींचा तो पता चला कि वो माँ की बुर की पूरी लंबाई के बराबर यानि ऊपर से नीचे तक की लंबाई में बाहर की तरफ निकला हुआ था और जबरदस्त मुलायम था।
उस समय मेरा लंड इतना टाइट हो गया था कि लगा जैसे फट जाएगा.. मैं धीरे से उठ कर बैठ गया और अपनी पैन्ट उतार कर लंड को माँ के चूतड़ से सटाने की कोशिश करने लगा… पर कर नहीं पाया।
तो मैं एक हाथ से माँ की बुर में ऊँगली डाल कर बाहर निकले चमड़े को सहलाता रहा और दूसरे हाथ से मुठ मारने लगा.. 2-3 मिनट में ही मैं झड़ गया।
पर जब तक मैं अपना गाढ़ा जूस रोक पाता.. वो माँ के चूतड़ों पर पूरा गिर चुका था। ये देख का मैं बहुत डर गया और चुपचाप पैन्ट पहन कर.. माँ को वैसा ही छोड़ कर सो गया। उस समय मेरा लंड इतना टाइट हो गया था कि लगा जैसे फट जाएगा.. मैं धीरे से उठ कर बैठ गया और अपनी पैन्ट उतार कर लंड को माँ के चूतड़ से सटाने की कोशिश करने लगा… पर कर नहीं पाया। तो मैं एक हाथ से माँ की बुर में ऊँगली डाल कर बाहर निकले चमड़े को सहलाता रहा और दूसरे हाथ से मुठ मारने लगा.. 2-3 मिनट में ही मैं झड़ गया.. पर जब तक मैं अपना गाढ़ा जूस रोक पाता.. वो माँ के चूतड़ों पर पूरा गिर चुका था।
ये देख का मैं बहुत डर गया और चुपचाप पैन्ट पहन कर.. माँ को वैसा ही छोड़ कर सो गया।
सुबह जब मैं उठा तो देखा.. कि माँ रोज की तरह अपना काम कर रही थीं और दीदी हॉकी की प्रैक्टिस.. जो सुबह 6 बजे ही शुरू हो जाती थी.. के लिए जा चुकी थीं।
मैं डरते-डरते बाथरूम की तरफ जाने लगा तो माँ ने कहा- आज चाय
नहीं माँगी तूने..?
तो मैंने बात पलटते हुए कहा- हाँ.. पी रहा हूँ.. पेसाब करके आता हूँ।
जब मैं बाथरूम से वापस आया तो माँ को देखा। माँ बरामदे में बैठी सब्जी काट रही थीं और वहीं पर मेरी चाय रखी हुई थी।
मैं चुपचाप बैठ कर चाय पीने लगा तो माँ मेरी तरफ देख कर हँसते हुए बोलीं- आज बड़ी देर तक सोता रहा।
“हाँ माँ नींद नहीं खुली..”
तो माँ बोलीं- एक काम किया कर.. आज से रात को और जल्दी सो जाया कर..।”
ये कह को वो हँसते हुए रसोई में चली गईं।
जब मैंने देखा कि माँ कल रात के बारे में कुछ भी नहीं बोलीं.. तो मैं खुश हो गया। उस दिन पूरे दिन मैंने कुछ भी नहीं किया.. मैंने सोच रखा था कि अब मैं रात को ही सब कुछ करूँगा.. जब तक या तो माँ मुझसे चुदाई के लिए तैयार ना हो या मुझे डांट नहीं देती।
रात को मैं खाना खाकर जल्दी से कमरे में आकर सोने का नाटक करने लगा। थोड़ी देर में माँ भी दीदी के साथ आ गईं। उस दिन माँ बहुत जल्दी काम ख़त्म करके आ गई थीं।
खैर.. मैं माँ के सोने का इंतजार
करने लगा।
थोड़ी ही देर में दीदी के जाने के बाद माँ धीरे से पलंग पर आकर लेट गईं। करीब एक घंटे तक लेटे रहने के बाद मैंने धीरे से आँखें खोलीं और माँ की तरफ सरक गया।
थोड़ी देर में जब मैंने बरामदे की हल्की रोशनी में माँ को देखा तो चौंक पड़ा.. माँ ने आज साड़ी की जगह नाईटी पहन रखी थी और उन्होंने अपना एक पैर थोड़ा आगे की तरफ कर रखा था।
फिर मैंने सोचा कि अगर ये किस्मत से हुआ तो अच्छा है और अगर माँ जानबूझ कर ये कर रही हैं तो माँ जल्दी ही चुद जाएगी।
उस रात मेरी हिम्मत थोड़ी बढ़ी हुई थी.. थोड़ी देर नाईटी के ऊपर से माँ का चूतड़ सहलाने के बाद मैंने धीरे से माँ की नाईटी का सामने का बटन खोल दिया और उसे कमर तक पूरा हटा दिया और धीरे से माँ के चूतड़ों को सहलाने लगा।
मैं जाँघों को भी सहला रहा था.. माँ के चूतड़ और जाँघें इतनी मुलायम थे कि मैं विश्वास नहीं कर पा रहा था।
फिर मैंने अपना हाथ उनकी जाँघों के बीच डाला तो मैं हैरान रह गया..।
आज माँ की बुर एकदम चिकनी थी.. उनके बुर पर बाल का नामोनिशान नहीं था.. उनकी बुर बहुत फूली हुई थी और बुर के दोनों होंठ फैले हुए थे। शायद एक जाँघ आगे करने के कारण, उनकी बुर से निकला हुआ चमड़ा लटक रहा था। मेरे कई दोस्तों ने गपशप के दौरान इसके बारे में बताया था कि उनके घर की औरतों की बुर से भी ये निकलता है और उन्हें इस पर बड़ा नाज़ होता है। मैं तो उत्तेजना की वज़ह से पागल हो रहा था.. मैंने लेटे-लेटे ही अपना शॉर्ट्स निकाल दिया और माँ की तरफ थोड़ा और सरक गया.. जिससे मेरा लंड माँ के चूतड़ों से टच करने लगा।
थोड़ी देर तक चुप रहने के बाद जब मैंने देखा कि माँ कोई हरकत नहीं कर रही हैं.. तो मेरी हिम्मत और बढ़ी।
अब मैं लेटे-लेटे ही माँ की बुर को सहलाने का पूरा मज़ा लेने लगा।
थोड़ी ही देर मे मुझे लगा कि माँ की बुर से कुछ चिकना-चिकना पानी निकल रहा है..।
ओह्ह.. क्या खुश्बू थी उसकी…
मेरा लंड फूल कर फटने की स्थिति में हो गया.. मैं अपना लंड माँ की गाण्ड के छेद.. उनकी जाँघों पर धीमे-धीमे रगड़ने लगा।
तभी मुझे एक आइडिया आया कि क्यों ना आज थोड़ा और बढ़ कर माँ की बुर से अपना लंड टच कराऊँ।
जब मैंने अपनी कमर को आगे खिसका कर माँ की जाँघों से सटाया तो लगा जैसे करेंट फैल गया हो.. मुझे झड़ने का जबरदस्त मन कर रहा था, पर मैंने सोचा कि एक बार माँ की बुर में लंड डाल कर उनकी बुर के पानी से चिकना कर लूँगा और फिर बाहर निकाल मुठ मार लूँगा।
ये सोच कर मैंने अपनी कमर थोड़ा ऊपर उठाया और अपना लंड माँ की बुर से लटके चमड़े को ऊँगलियों से फैलाते हुए उनके छेद पर रखा.. तो माँ की बुर से निकलता हुआ चिकना पानी मेरे सुपारे पर लिपट गया और थोड़ा कोशिश करने पर मेरा सुपारा माँ की बुर के छेद में घुस गया।
जैसे ही सुपारा अन्दर गया.. उफ़फ्फ़ माँ की बुर की गर्मी मुझे महसूस हुई और जब तक मैं अपना लंड बाहर निकालता मेरे लंड से वीर्य का फुहारा माँ की बुर में पिचकारी की तरह निकलने लगा।
मैं घबरा तो गया.. पर ज्यादा हिलने से डर भी रहा था कि कहीं माँ जाग ना जाएं।
जब तक मैं धीरे से अपना लंड माँ की बुर से निकालता.. तब तक मेरे लंड का पानी माँ की बुर में पूरा खाली हो चुका था और लंड निकालते वक़्त वीर्य की गाढ़ी धार माँ के गाण्ड के छेद पर बहने लगी।
मुझे लगा अब तो मैं माँ से पक्का पिटूंगा। मैं डर के मारे जल्दी से शॉर्ट्स पहन कर सो गया.. मुझे नींद नहीं आ रही थी.. पर मैं कब सो गया, पता ही नहीं चला।
अगले दिन उठा तो देखा कि हमेशा की तरह माँ सफाई कर रही थीं.. पर दीदी स्टेडियम नहीं गई थी।
मुझे देखते ही माँ ने दीदी से कहा- वीना.. जा चाय गरम करके भाई को देदे और मुझे प्यार से वहीं बैठने के लिए कहा।
मैंने चोरी से माँ की ओर देखा तो माँ मुझे देख कर पूछने लगीं, “आज नींद कैसी आई..?
मैंने कहा- अच्छी..।
तो माँ हँसने लगीं और मेरी पैंट की ओर देख कर बोलीं- अब तू रात में सोते समय थोड़े ढीले कपड़े पहना कर। हाफ-पैन्ट पहन कर नहीं सोते हैं।
अब तू बड़ा हो रहा है.. देख मैं और वीनू भी ढीले कपड़े पहन कर सोते हैं। मैं ये सुन कर बड़ा खुश हुआ कि माँ ने मुझे डांटा नहीं।
उस दिन मुझे पूरा विश्वास हो गया था कि अब माँ मुझे रात में पूरे मज़े लेने से मना नहीं करेगीं.. भले ही दिन में चुदाई के बारे में खुल कर कोई बात ना करें।
अब तो मैं बस रात का ही इंतजार करता था।
खैर.. उस रात फिर जब मैं सोने के लिए कमरे में गया तो मुझे माँ की ढीले कपड़े पहनने वाली बाद याद आई.. पर मेरे पास कोई बड़ी शॉर्ट्स नहीं थी।
मैंने अल्मारी में से एक पुरानी लुँगी निकाली और अंडरवियर उतार कर पहन लिया और सोने का नाटक करने लगा।
तभी मेरे मन में माँ की सुबह वाली बात चैक करने का विचार आया और मैंने अपनी लुँगी का सामने वाला हिस्सा थोड़ा खोल दिया.. जिससे मेरा लंड खड़ा होकर बाहर निकल गया और अपने हाथों को अपनी आँखों पर इस तरह रखा कि मुझे माँ दिखाई दे।
थोड़ी ही देर में माँ कमरे में आईं और नाईटी पहन कर पलंग पर आने लगीं और लाइट ऑफ करने के लिए जैसे ही मुड़ीं.. एकदम से वे मेरे लंड को देखते ही रुक गईं.. थोड़ी देर वैसे ही मेरे लंड को जो की पूरे 6” लम्बा और 1.5” व्यास बराबर मोटा था.. को देखती रहीं। मैंने अल्मारी में से एक पुरानी लुँगी निकाली और अंडरवियर उतार कर पहन लिया और सोने का नाटक करने लगा।
तभी मेरे मन में माँ की सुबह वाली बात चैक करने का विचार आया और मैंने अपनी लुँगी का सामने वाला हिस्सा थोड़ा खोल दिया.. जिससे मेरा लंड खड़ा होकर बाहर निकल गया और अपने हाथों को अपनी आँखों पर इस तरह रखा कि मुझे माँ दिखाई दे।
थोड़ी ही देर में माँ कमरे में आईं और नाईटी पहन कर पलंग पर आने लगीं और लाइट ऑफ करने के लिए जैसे ही मुड़ीं.. एकदम से वे मेरे लंड को देखते ही रुक गईं.. थोड़ी देर वैसे ही मेरे लंड को जो की पूरे 6” लम्बा और 1.5” व्यास बराबर मोटा था.. को देखती रहीं।
फिर पता नहीं क्यों उन्होंने लाइट बंद करके नाईट-बल्ब जला दिया और पलंग पर लेट गईं।
वो मेरे लंड को बड़े प्यार से देख रही थीं.. पर मेरे लंड को उन्होंने छुआ नहीं..।
फिर दूसरी तरफ करवट बदल कर एक पैर को कल की तरह आगे फैला कर लेट गईं।
मुझे पक्का विश्वास था कि आज माँ ने जानबूझ कर नाईट-बल्ब ऑन किया है ताकि मैं कुछ और हरकत करूँ।
आधे-एक घन्टे के बाद जब मैं माँ की ओर सरका.. तो लुँगी की गाँठ रगड़ से अपने आप ही खुल गई और मैं नंगे ही अपने खड़े लंड को लेकर माँ की तरफ सरक गया और नाईटी खोल कर कमर तक हटा दिया।
उस रात मैंने पहली बार माँ के चूतड़.. गाण्ड और बुर को देख रहा था.. मेरी खुशी का ठिकाना नहीं था।
मैं झुक कर माँ की जाँघों और चूतड़ के पास अपना चेहरा ले जाकर बुर को देखने की कोशिश करने लगा।
मुझे अपनी आँखों पर विश्वास नहीं हो रहा था कि कोई चीज इतनी मुलायम, चिकनी और सुन्दर हो सकती है।
माँ की बुर से बहुत अच्छी से भीनी-भीनी खुश्बू आ रही थी.. मैं एकदम मदहोश होता जा रहा था।
पता नहीं कैसे.. मैं अपने आप ही माँ की बुर को नाक से सटा कर सूंघने लगा.. उफ…बुर से निकले हुए चमड़े के दोनों पत्ते.. किसी गुलाब की पंखुड़ी से लग रहे थे।
माँ की बुर का छेद थोड़ा लाल था और गाण्ड का छेद काफ़ी टाइट दिख रहा था.. पर सब मिला कर उनके पूरे चूतड़ और जाँघें बहुत मुलायम थे।
मैंने उसी तरह कुछ देर सूंघने के बाद माँ की बुर के दोनों पत्तों को मुँह में भर लिया और चूसने लगा।
उनकी बुर से बेहद चिकना लेकिन नमकीन पानी निकलने लगा.. मैं भी आज चुदाई के मज़े लेना चाहता था।
फिर मैंने माँ की बुर से निकलते हुए पानी को अपने कड़े सुपारे पर लपेटा और धीरे से माँ की बुर में डालने की कोशिश करने लगा… पर पता नहीं कैसे आज मेरा लंड बड़ी आसानी से माँ की बुर के छेद में घुस गया।
मैं वैसे ही थोड़ी देर रुका रहा.. फिर मैंने लंड को अन्दर डालना शुरू किया।
दो-तीन प्रयासों में मेरा लंड माँ की बुर में घुस गया।
ओह.. क्या मज़ा रहा था.. माँ की बुर काफ़ी गरम थी और मेरे लंड को चारों ओर से जकड़े हुए थी।
थोड़ी देर उसी तरह रहने के बाद मैंने लंड को अन्दर-बाहर करना शुरू किया। ओह.. जन्नत का मज़ा मिल रहा था..
लगभग 4-5 मिनट अन्दर-बाहर करते ही मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ.. तो मैंने अपनी रफ़्तार और तेज़ कर दी और अपना गाढ़ा-गाढ़ा वीर्य माँ की बुर में उढ़ेल दिया और थोड़ी देर तक उसी तरह माँ से चिपका हुआ लेटा रहा कि अभी आराम से सो जाऊँगा। पर पता नहीं कैसे आँख लग गई और मैं वैसे ही सो गया।
सुबह जब उठा तो देखा.. मेरी लुँगी की गाँठ लगी हुई है और एक पतली चादर मेरी कमर तक उढ़ाई गई है.. मैं समझ गया कि ये काम
माँ ने किया है.. पर कब और कैसे..? खैर.. जब मैं बाहर निकला तो दीदी स्टेडियम जा चुकी थीं और माँ रसोई में थीं।
मुझे देखते ही वो मेरी और अपनी चाय लेकर मेरे पास आईं और देते हुए बोलीं- आजकल तू बड़ी गहरी नींद में सोता है और अपने कपड़ों का ध्यान भी नहीं रखता है.. सुबह तेरी लुँगी जाने कैसे खुल गई थी और तू वैसे ही मुझ से चिपक कर सो रहा था..।
और वे हँसने लगीं।
तो मैंने कहा- तो ठीक है ना माँ.. इसी बहाने तुम मेरा ध्यान रख लेती हो..। पर इसके आगे की कोई बात माँ ने नहीं की.. तो मैंने भी कुछ नहीं कहा। मैंने सोचा जब रात में सब कुछ ठीक हो रहा है.. तो मज़े लो.. बाकी बाद में देखेंगे और मैं उठ कर फ्रेश होने चला गया।
माँ भी काम करने चली गईं।
इसी तरह 8-10 दिन बीत गए और मैं माँ की चुदाई के मज़े लेता रहा और माँ भी कुछ खुलने लगी थीं।
मैं भी रात को माँ की नाईटी ऊपर से नीचे तक पूरा खोल कर उसे पूरा नंगा कर देता.. फिर थोड़ी देर उसकी गाण्ड और चूत चाटने के बाद उसकी चूचियों को और पेट के नीचे वाले हिस्से को पकड़ कर पूरा ज़ोर लगा कर लंड अन्दर डाल कर चुदाई करता और झड़ने के बाद माँ की बुर से लंड बिना बाहर निकाले हुए उसकी चूचियों को पकड़ कर सो जाता था।
माँ भी सुबह कमरे से बाहर जाते समय मुझे नंगा ही छोड़ देतीं और दरवाज़ा चिपका देतीं.. ताकि दीदी अन्दर ना आ जाए।
अब वे दीदी के जाने के बाद नहाते वक़्त बाथरूम का दरवाजा नहीं बंद करतीं और हमेशा दिन में भी नाईटी पहने रहतीं.. जिसमें से उनका पूरा जिस्म लगभग दिखाई पड़ता था.. पर मैं कुछ ज्यादा ही करना चाहता था।
लगभग 10-12 दिन बाद रात को जब मैं पलंग पर गया तो मेरे दिमाग में यही सब बातें घूम रही थीं कि कैसे माँ को दिन में चुदाई के लिए तैयार किया जाए।
खैर.. मैं अपना लंड लुँगी से बाहर निकाल कर लेट गया.. थोड़ी देर में माँ कमरे में आईं और थोड़ा सामान ठीक करने के बाद नाइट-बल्ब ऑन करके लेट गईं.. लेटने से पहले उन्होंने मेरे माथे पर चुम्बन किया और मुस्कुरा कर सो गईं।
अब तक मैं ये जान चुका था कि माँ को सब पता है और वो जागी रहती हैं पर चूँकि वो कुछ नहीं कहतीं और चुपचाप मज़े लेती थीं.. तो मैं भी मस्त हो कर मज़े लेता।
अब तो मैं माँ के लेटने के 4-5 मिनट बाद ही शुरू हो जाता और नाईटी खोल कर हटा देता था।
आज भी केवल 5 मिनट के बाद मैंने फिर अपनी लुँगी हटा कर माँ की नाईटी को पूरा उतार दिया, थोड़ी देर तक माँ की गाण्ड और बुर को चाटने और खेलने के बाद जब मैंने लंड को माँ के चूतड़ों से रगड़ना शुरू किया चूँकि माँ आज थोड़ा सा पेट के बल लेटी हुई थीं.. तो मेरे मन में एक आइडिया आया कि क्यों ना आज माँ की गाण्ड में लंड डाला जाए।
ये सोचते ही मैं उत्तेजना से और भर गया और मैं माँ के चूतड़ों को हाथों से थोड़ा खोलते हुए उनकी गाण्ड के छेद को चाटने लगा।
मुझे महसूस हुआ कि माँ की बुर और गाण्ड का छेद खुल और बंद हो रहा था और बुर से पानी निकल रहा था। थोड़ी देर चाटने के बाद मैं ऊँगली से गाण्ड के छेद को खोलने लगा.. फिर सुपारे पर माँ की बुर का पानी लगाया फिर थोड़ा सा पानी उनकी गाण्ड के छेद पर भी लगाया और छेद पर सुपारा रख कर उसकी कमर को पकड़ कर अन्दर डालने की कोशिश करने लगा.. पर उनकी गाण्ड का छेद बुर के छेद से काफ़ी तंग था।
थोड़ी कोशिश करने पर सुपारा तो अन्दर घुस गया पर मैं लंड पूरा अन्दर नहीं डाल पा रहा था.. तो मैंने थोड़ा रुक कर उसके चूतड़ों को हाथों से फैलाते हुए फिर से लंड अन्दर डालना शुरू किया।
पर पता नहीं क्यों मेरे लंड में जलन सी होने लगी.. मैंने लंड बाहर निकाल लिया और नाइट-बल्ब की रोशनी में देखा तो मेरे सुपारे के पास से जो चमड़ा सटा था.. वो एक तरफ से फट गया था और वहीं से जलन हो रही थी।
मेरे दोस्तों ने बताया तो था कि चुदाई के बाद लंड का टांका टूट जाता है और सुपारा पूरा बाहर निकल जाता है।
अब जलन के मारे मैं चुदाई नहीं कर पा रहा था और मारे उत्तेजना के मैं बिना झड़े रह भी नहीं सकता था।
मैं उत्तेजना के मारे लंड को हाथ में पकड़ कर माँ के जिस्म पर रगड़ने लगा।
मेरे दिमाग़ में कुछ भी नहीं सूझ रहा था। मैं तो बस झड़ना चाहता था.. तभी मेरे मन में माँ के मुँह में लंड डालने का विचार आया और मैं अपना लंड माँ के चेहरे से रगड़ने के लिए पलंग से नीचे उतर कर.. माँ के चेहरे के पास खड़ा हो गया।
अपना लंड हाथ में पकड़ कर सुपारा माँ के गालों और होंठों से धीमे-धीमे रगड़ने लगा.. मैं बस उत्तेजना की वज़ह से पागल हो रहा था।
अगर उस वक़्त माँ उठ भी जाती तो भी मैं नहीं रुक पाता।
फिर मैं माँ के होंठों से सुपारे को सटाते हुए मुठ मारने लगा.. पर उनके मुँह पर झड़ने की हिम्मत नहीं हुई और मैं वहाँ से हट कर उनकी गाण्ड और बुर के छेद पर लंड रख कर मुठ मारने लगा। मैं तेज़ी से मुठ मार रहा था और थोड़ी देर में माँ की गाण्ड के और बुर के छेद पर ऊपर से ही पूरा वीर्य पिचकारी की तरह छोड़ने लगा। माँ की पूरी बुर.. चूतड़ और गाण्ड मेरे वीर्य से भर गई थी और पूरा गाढ़ा पानी उनकी जाँघों पर भी बहने लगा। जब मेरी उत्तेजना शांत हुई तो मैंने लंड में एक तेज़ जलन महसूस की.. मैंने देखा कि मेरा लंड पूरा छिल गया था और चमड़े पर सूजन आ गई थी।
मैं ये देख कर परेशान हो गया और माँ को उसी तरह छोड़ कर चुपचाप सो गया। अपना लंड हाथ में पकड़ कर सुपारा माँ के गालों और होंठों से धीमे-धीमे रगड़ने लगा.. मैं बस उत्तेजना की वज़ह से पागल हो रहा था।
अगर उस वक़्त माँ उठ भी जाती तो भी मैं नहीं रुक पाता।
फिर मैं माँ के होंठों से सुपारे को सटाते हुए मुठ मारने लगा.. पर उनके मुँह पर झड़ने की हिम्मत नहीं हुई और मैं वहाँ से हट कर उनकी गाण्ड और बुर के छेद पर लंड रख कर मुठ मारने लगा। मैं तेज़ी से मुठ मार रहा था और थोड़ी देर में माँ की गाण्ड के और बुर के छेद पर ऊपर से ही पूरा वीर्य पिचकारी की तरह छोड़ने लगा। माँ की पूरी बुर.. चूतड़ और गाण्ड मेरे वीर्य से भर गई थी और पूरा गाढ़ा पानी उनकी जाँघों पर भी बहने लगा। जब मेरी उत्तेजना शांत हुई तो मैंने लंड में एक तेज़ जलन महसूस की.. मैंने देखा कि मेरा लंड पूरा छिल गया था और चमड़े पर सूजन आ गई थी।
मैं ये देख कर परेशान हो गया और माँ को उसी तरह छोड़ कर चुपचाप सो गया।
जब सुबह उठा तो मैंने देखा कि मेरे लंड का चमड़ा काफ़ी सूज गया था और छिला हुआ था।
मैं बाहर निकला तो माँ रसोई से निकल रही थीं और मुझे देखते ही वापस चाय लेकर चली आईं.. पर मेरा मुँह उतरा हुआ था।
माँ मुझे देख कर मुस्कुराईं.. पर मैं कुछ नहीं बोला।
माँ थोड़ी देर बैठने के बाद काम करने चली गईं और मैं नहाने चला गया। नहाते वक़्त मैं सोच रहा था की अब तो बस चुदाई बंद ही करनी पड़ेगी। लंड को देख कर मुझे रोना आ रहा था।
तभी मुझे एक आइडिया आया कि क्यों ना माँ को ही लंड दिखा कर उनसे इलाज़ पूछा जाए और हो सकता है इसी बहाने माँ मुझे दिन में भी खुल जाएं।
मैं तौलिया लपेटे बाहर निकला और कमरे में जा कर माँ को आवाज़ दी.. तो माँ कमरे में आईं और पूछा- क्या हुआ बेटा?
मैंने कहा- माँ मेरे पेशाब वाली जगह में दर्द हो रहा है.. सूज भी गया है।
तो माँ ने मुझे ऐसे देखा जैसे कह रही हों.. ये तो एक दिन होना ही था और बोलीं- बेटा तौलिया खोलो.. मैं देखूँ। और वे बाहर बरामदे में दिन की रोशनी में आ गईं।
मैं भी बाहर आ गया और उनके पास खड़ा हो कर तौलिया खोल दिया.. मेरा लंड वाकयी में सूज का मोटा हो गया था।
जब माँ ने लंड को देखा तो धीमे से मुस्कुराते हुए मुझसे पूछा- इसके साथ क्या कर रहा था?
मैंने बड़े भोलेपन से कहा- कुछ नहीं इसमें से खून भी निकल रहा है..।
तो माँ मेरे लंड को हाथ में लेकर चमड़ा पीछे करने लगीं.. तो मुझे दर्द होने लगा।
तो माँ ने कहा- ओह ये तो छिल गया है.. लग रहा है रगड़ लगी है..।
और वे चमड़ा पीछे कर के सुपारा देखने लगीं।
फिर बोलीं- अच्छा मैं इस पर बोरोलीन लगा देती हूँ.. पर तू इसे खुला ही रहने दे और अभी कुछ पहनने की ज़रूरत नहीं है.. बस मैं ही तो हूँ.. तू ऐसे ही रह ले।
ये कह कर माँ कमरे से बोरोलीन लेने चली गईं।
मैं उनके चूतड़ों को हिलते हुए देख रहा था.. तभी वो बोरोलीन लेकर आ गईं और मेरे लंड को हाथ में लेकर सुपारे पर लगाने लगीं।
जिसकी वज़ह से मेरा लंड खड़ा होने लगा और करीब 6 लम्बा हो गया.. सूजन की वज़ह से वो और मोटा लग रहा था.. ये देख कर माँ
मेरे चूतड़ पर थप्पड़ मारते हुए बोलीं- ये क्या कर रहा है?
मैं बोला- माँ ये अपने आप हो गया है.. मैंने नहीं किया है।
तो माँ बोलीं- अच्छा ये भी अपने आप हो गया है और रगड़ भी अपने आप ही लग गई है.. सच बता ये रगड़ कैसे लगी?
मैं हँसने लगा तो माँ खुद ही बोलीं- बेटा ये एक बहुत नाज़ुक अंग होता है.. इसकी देखभाल बड़ी संभाल कर करनी पड़ती है.. जब तू शादी के लायक बड़ा हो जाएगा.. तब तुझे इसकी अहमियत पता चलेगी।
माँ बोलती जा रही थीं और सुपारे और लंड पर बोरोलीन लगाती जा रही थीं।
मेरा हाथ माँ के कंधे पर था और खड़े होने की वजह से मुझे नाईटी के खुले भाग से माँ की बड़ी-बड़ी चूचियाँ आधे से ज़्यादा दिखाई पड़ रही थीं।
मैं अपने हाथों को माँ की चूचियाँ की तरफ बढ़ाते हुए बोला- क्यों माँ शादी के बाद ऐसा क्या होता है कि इसकी इतनी ज़रूरत पड़ती है?
ये सुन कर माँ ने मुस्कुराते हुए मुझे देखा और बोलीं- ये तो शादी के बाद ही पता चलेगा.. तो मैं थोड़ा और मज़े लेते हुए माँ से पूछा- माँ क्या तुम औरतों की भी ये इंपॉर्टेंट होती है?
“ये क्या..?”
माँ ने पूछा।
तो मैं हँसते हुए बोला- अरे यही जो तुमने मेरा हाथ में पकड़ा हुआ है।
तो माँ मुझे देख कर मुस्कुराते हुए बोलीं- मेरा ऐसा नहीं है..।
तो मैंने धीरे से उनकी नाईटी का ऊपर वाला बटन खोल दिया.. जिससे उनकी चूचियाँ बाहर निकल आईं और धीमे से लंड को उससे सटाते हुए पूछा- तो फिर कैसा है?
पर माँ कुछ नहीं बोलीं.. मेरा लंड उत्तेजना में और टाइट हुआ जा रहा था और खिंचाव के कारण सुपारे के टांके वाली जगह पर दर्द होने लगा।
मैं बोला- उह.. माँ ये तो बहुत दर्द कर रहा है।
तो माँ बोलीं- बेटा रगड़ की वजह से तेरे सुपारे का टांका खुल गया है और ऊपर से तूने ही तो इसे फुला रखा है.. चल मैंने क्रीम लगा दी है.. 7-8 दिन में ठीक हो जाएगा और ये कह कर माँ सुपारे को सहलाने लगीं।
मैंने ध्यान से देखा तो माँ का भी चेहरा उत्तेजना की वजह से लाल हो
गया था और उसकी चूचियाँ और निप्पल एकदम खड़े हो गए थे।
मैंने सोचा ये मौका अच्छा है माँ को और गरम कर देता हूँ.. तो माँ शायद खुल जाएं।
ये सोच कर मैं बोला- माँ ये टांका क्या होता है और मेरा कैसे खुल गया?
माँ भी थोड़ा खुलने लगीं और बोलीं- बेटा ये जो चमड़ा है ना.. ये सुपारे के पीछे वाले हिस्से से चिपका रहता है.. तूने ज़रूर इसे तेज़ रगड़ दिया होगा। तो मैं माँ के निप्पल छूते हुए बोला- पहले ये बताओ कि इसे नीचे कैसे करूँ.. बहुत दर्द हो रहा है।
तो माँ मेरे चूतड़ों पर चिकोटी काटते हुए पूछने लगीं, “पहले कैसे करता था..?”
तो मैं हँसने लगा और माँ की चूचियों पर हाथ से दबाव बढ़ाते हुए कहा- वो तो बस ऐसे ही।
“इसलिए आजकल कुछ ज़्यादा ही रगड़ रहा है.. तेरी वज़ह से मुझे भी परेशानी होने लगी है।”
माँ ने चूचियों पर बिना ध्यान देते हुए कहा।
“तो तुम बताओ ना कि क्या करूँ..?” मैंने कहा और अपनी कमर थोड़ा और आगे बढ़ा दी.. जिससे मेरा लंड माँ की दोनों चूचियों के बीच में घुस गया और अपनी ऊँगलियों के बीच में निप्पल को फँसा लिया।
तो माँ बोलीं- ये क्या कर रहा है?
मैं शरारात से हँसते हुए बोला- माँ तुम्हारी चूचियाँ बड़ी मुलायम हैं।
पर माँ हँसते हुए उठने लगीं.. जिससे मेरा लंड उनकी चूचियों में दब गया और मेरे सुपारे पर लगा क्रीम उनकी चूचियों पर भी लग गया।
तो माँ अपनी चूचियों को हाथों से फैलाते हुए मुझे दिखा कर बोलीं- ये देख तेरी क्रीम मेरी चूचियों में लग रही है.. चल अभी खाना बनाना है.. देर हो रही है.. बाद में बताऊँगी।
माँ रसोई में से सामान ला कर वहीं बरामदे में चौकी पर बैठ कर काम करने लगीं।
उसकी चूचियाँ वैसे ही खुली हुई थीं। पर मेरे दिमाग में तो माँ को दीदी के आने से पहले नंगा करने का प्लान चल रहा था।
ये सोच कर मैं भी माँ के बगल में ही उसकी तरफ मुँह करके चौकी पर बैठ गया।
मैंने अपना एक पैर मोड़ कर माँ की जाँघों पर रख दिया.. मेरा लंड उस समय एकदम टाइट था।
माँ ने मुस्कुराते हुए मुझे देखा और सब्जी काटने लगीं।
मैं माँ के सामने ही अपने लंड को हाथ में लेकर सहलाने लगा.. जिससे सुपारा और फूल गया था।
माँ बोलीं- ये क्या कर रहा है?
तो मैंने कहा- माँ बहुत खुजली हो रही है।
फिर माँ कुछ नहीं बोलीं और अपना काम करने लगीं।
मैं जानबूझ कर लंड माँ के सामने करके सहला रहा था। मैंने देखा माँ का ध्यान भी मेरे सुपारे पर ही था और वो बार-बार अपनी जाँघों को फैला रही थीं.. चूँकि नाईटी का आगे का भाग खुला हुआ था.. जिससे मुझे कई बार उसकी बुर दिखाई दी.. मैं समझ गया कि माँ एकदम गरम हो गई है.. मैं उसे और उत्तेजित करने के लिए हिम्मत बढ़ाते हुए एकदम खुल कर बात करने लगा।
मैं बोला- माँ तुम कह रही हो कि मेरा लंड ठीक होने में 7-8 दिन लगेंगे और तब तक मुझे ऐसे ही लंड खुला रखना पड़ेगा..।
तो माँ बोलीं- हाँ.. खुला रखेगा तो घाव जल्दी सूखेगा और आराम भी मिलेगा।
“लेकिन माँ खुला होने की वजह से मेरा लंड पूरा तना जा रहा है.. जिससे चमड़ा खिंचने के कारण दर्द हो रहा है और खुजली भी बहुत हो रही है।”
मैंने लंड माँ को दिखाते हुए बोला.. तो माँ ने कहा- बेटा लंड खड़ा रहेगा तो खुजली होगी ही..।
तो मैं बोला- माँ क्या तुम्हारे उधर भी खुजली होती है? मैं जानबूझ कर लंड माँ के सामने करके सहला रहा था। मैंने देखा माँ का ध्यान भी मेरे सुपारे पर ही था और वो बार-बार अपनी जाँघों को फैला रही थीं.. चूँकि नाईटी का आगे का भाग खुला हुआ था.. जिससे मुझे कई बार उसकी बुर दिखाई दी.. मैं समझ गया कि माँ एकदम गरम हो गई है.. मैं उसे और उत्तेजित करने के लिए हिम्मत बढ़ाते हुए एकदम खुल कर बात करने लगा।
मैं बोला- माँ तुम कह रही हो कि मेरा लंड ठीक होने में 7-8 दिन लगेंगे और तब तक मुझे ऐसे ही लंड खुला रखना पड़ेगा..।
तो माँ बोलीं- हाँ.. खुला रखेगा तो घाव जल्दी सूखेगा और आराम भी मिलेगा।
“लेकिन माँ खुला होने की वजह से मेरा लंड पूरा तना जा रहा है.. जिससे चमड़ा खिंचने के कारण दर्द हो रहा है और खुजली भी बहुत हो रही है।”
मैंने लंड माँ को दिखाते हुए बोला.. तो माँ ने कहा- बेटा लंड खड़ा रहेगा तो खुजली होगी ही..।
तो मैं बोला- माँ क्या तुम्हारे उधर भी खुजली होती है?
“हाँ.. होती है..” माँ बोलीं।
“क्यों.. क्या तुम्हारे भी टांका टूटता है?”
मैंने पूछा.. तो माँ हँसने लगीं और बोलीं- नहीं हमारे में टांका-वांका नहीं होता है.. बस छेद होता है।
माँ अब काफ़ी खुल कर बातें करने लगी थीं, तो मैंने जानबूझ कर अंजान बनते हुए माँ की जांघों के ऊपर से नाईटी का बटन खोल कर हटा दिया जिससे उनके कमर के नीचे का हिस्सा नंगा हो गया और उनकी बुर को हाथों से छूते हुए कहा- अरे हाँ.. तुम्हारे तो लंड है ही नहीं.. लेकिन छेद कहाँ है.. यहाँ तो बस फूला-फूला सा दिखाई दे रहा है और इसमें से कुछ बाहर निकल कर लटका भी है।
तो माँ ने तुरंत मेरा हाथ अपनी बुर से हटा कर उसे ढँकते हुए बोलीं- छेद उसके अन्दर होता है।
“तो तुम खुजलाती कैसे हो?”
मैंने कहा।
तो वो बोलीं- उसे रगड़ कर और कैसे। मैं बोला- लेकिन मैंने तो तुम्हें कभी अपनी नंगी बुर खोल कर सहलाते हुए नहीं देखा है।
माँ खूब तेज हँसते हुए बोलीं- बुर.. बुर.. ये तूने कहाँ से सुना।
“मेरे दोस्त कहते हैं उनमें से कई तो अपने घर में नंगे ही रहते हैं और सब औरतों की बुर देख चुके हैं।”
ये सुन कर माँ बोलीं- अच्छा तो ये बात है.. तभी मैं कहूँ कि तू आज कल क्यूँ ये हरकतें कर रहा है..?
मैंने हँसते हुए कहा- कौन सी हरकत? तो माँ मेरे लंड को हाथों से पकड़ कर हल्के से हिलाते हुए बोलीं- रात वाली और कौन सी.. जिसके कारण ये हुआ है.. खुद तो जैसे-तैसे करके सो जाता है और मुझे हर तरफ से गीला कर देता है।
तो मैं हँसने लगा और कहा- तुम भी तो मज़े ले रही थीं।
तब तक शायद माँ की बुर काफ़ी गीली हो चुकी थी और खुजलाने भी लगी थी.. क्योंकि वो अपने एक हाथ से नाईटी का थोड़ा सा हिस्सा जो केवल उसकी बुर ही ढके हुए था।
क्योंकि बाकी का हिस्सा तो मैं पहले ही नंगा कर चुका था। उन्होंने नाईटी को हल्का सा हटा कर बुर से निकले हुए चमड़े के पत्ते को मसलने लगीं। माँ धीमे-धीमे हँस रही थीं.. पर कुछ बोली नहीं।
“माँ कितना अच्छा लगता है ना.. रात वाली हरकत दिन में भी करें.. देखो ना मेरा लंड कितना फूल गया है और तुम्हारी बुर भी खुज़ला रही है.. प्लीज़ मुझे दिन में अपनी बुर देखने दो ना और वैसे भी मैं अभी तो लंड तुम्हारे छेद में डाल नहीं पाऊँगा।
मैंने एक हाथ से अपने लंड को सहलाते हुए कहा और दूसरे हाथ से उसकी नंगी जाँघ को सहलाते हुए उसकी बुर के होठों को ऊँगलियों से खोलने लगा।
माँ भी शायद बहुत गरम हो गई थीं और चुदना चाहती थीं.. क्योंकि उसने मेरा हाथ इस बार नहीं हटाया, पर शायद शर्मा रही थीं और अचानक बात को पलटते हुए बोलीं- अरे कितनी देर हो गई.. खाना बनाना है।
और वैसे ही नाईटी बिना बंद किए हुए उठ कर रसोई में चली गईं।
मैं भी तुरंत माँ के पीछे-पीछे रसोई में चला गया और मैंने देखा कि उन्होंने नाईटी के सिर्फ़ एक-दो बटन ही बंद किए थे.. बाकी सारा खुला हुआ था जिसके कारण उनकी चूचियाँ बाहर निकली हुई थीं और नाभि से नीचे का पूरा हिस्सा पैरों तक एकदम नंगा दिख रहा था।
मैं उनसे पीछे से पकड़ कर चिपक गया जिससे मेरा लंड माँ के चूतड़ों के बीच में घुस गया और बोला- माँ तुम बहुत अच्छी हो.. मेरे दोनों हाथ माँ के नंगे पेट पर थे।
माँ बोलीं- अच्छा मुझे मस्का लगा रहा है।
तो मैं हँसने लगा और धीरे-धीरे अपना हाथ माँ के पेट सहलाते हुए निचले हिस्से की ओर ले जाने लगा।
माँ की साँसें तेज़ चल रही थीं पर वे कुछ बोली नहीं.. तो मेरी हिम्मत और बढ़ी और मैंने अपना हाथ माँ की बुर के ऊपर हल्के से रख दिया और ऊँगलियों से उनकी बुर हल्के-हल्के दबाने लगा।
पर माँ फिर भी कुछ नहीं बोलीं।
मेरा लंड उत्तेजना की वज़ह से पूरा तना हुआ था और माँ की गाण्ड में घुसने की कोशिश कर रहा था।
माँ की बुर की चिकनाई मुझे महसूस हो रही थी और चिकना पानी उसकी बुर से निकल कर जांघों पर बह रहा था।
मैं ऊँगलियों को और नीचे की तरफ करता जा रहा था.. तभी मेरी ऊँगलियां माँ की बुर की पुत्तियों को टच करने लगीं।
माँ बोलीं- तू बहुत बदमाशी कर रहा है।
पर मैं बिना कुछ बोले लगा रहा और फिर एक हाथ से धीरे-धीरे उसकी बुर के लटकते हुए चमड़े को सहलाने और फैलाने लगा।
जब मैंने देखा कि माँ मना नहीं कर रही हैं तो मैं धीरे से दूसरे हाथ से माँ की नाईटी को माँ की कमर के पीछे कर दिया दिया.. जिससे माँ पेट के नीचे से एकदम नंगी हो गईं।
मैं उत्तेजना के मारे पागल हो रहा था। मेरे लंड का सुपारा माँ की नंगे चूतड़ों की फांकों में धँस गया.. फिर मैं उनकी बुर से निकले लंबे चमड़े को फैला कर बुर के छेद में ऊँगली डालने की कोशिश करने लगा।
माँ ने काम करना बंद कर दिया..
उनकी बुर से चिकने पानी की बूंदें टपकने लगी थीं।
माँ भी अब मेरा साथ दे रही थीं और नाईटी के बाकी बटनों को खोल दिया.. जिससे नाईटी नीचे गिर गई।
अब माँ और मैं पूरी तरह नंगे हो गए थे।
मैं पीछे से हट कर माँ के सामने आ गया और मूढ़े पर बैठ कर माँ की बुर को फैलाते हुए उनकी बुर से बाहर लटकते हुए चमड़े को मुँह में भर लिया और चूसने लगा।
माँ ने मेरा सर पकड़ कर अपनी बुर से और सटा दिया.. उनके मुँह से ‘ओह्ह.. आह’ की आवाजें निकल रही थीं।
मैंने अपनी जीभ माँ की बुर में डाल दी और उन्हें तेज़ी से अन्दर-बाहर करने लगा। उनकी बुर का सारा नमकीन पानी मेरे मुँह में भर गया.. माँ ने भी मस्त हो कर अपनी जांघों को और फैला दिया और कमर हिला-हिला कर बुर चटवाने लगीं।
कुछ ही देर में माँ मेरे मुँह को जाँघों से दबाते हुए झड़ गईं.. पर मेरा लंड और ज्यादा तन गया था।
तभी माँ मुझे खड़ा करते हुए खुद मूढ़े पर बैठ गईं और नीचे गिरी हुई नाईटी से मेरे सुपारे को पौंछ कर मेरा सुपारा अपने मुँह में भर लिया और मेरे चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से दबाते हुए चूसने लग गईं और एक ऊँगली मेरी गाण्ड के छेद में डालने लगीं।
मैं तो जैसे सपनों की दुनिया में पहुँच गया था।
माँ ज़ोर-ज़ोर से मेरा लंड चूस रही थीं और मैं भी लंड को उसके मुँह में अन्दर-बाहर कर रहा था।
तभी मैंने अपना कंट्रोल खो दिया और तेज ‘आह..’ करते हुए माँ के मुँह में ही झड़ने लगा।
माँ मेरे सुपारे को तब तक अपने मुँह में लिए रहीं.. जब तक मेरा वीर्य निकलना बंद नहीं हो गया।
हम दोनों कुछ देर तक वैसे ही बैठे रहे, फिर माँ मुझ से प्यार करते हुए बोलीं- तूने आख़िर अपनी मनमानी कर ही ली..।
तो मैं बोला- तुम्हें अच्छा लगा ना..। तो माँ हँसने लगीं और चाय बनाने लगीं।
माँ मुझे खड़ा करते हुए खुद मूढ़े पर बैठ गईं और नीचे गिरी हुई नाईटी से मेरे सुपारे को पौंछ कर मेरा सुपारा अपने मुँह में भर लिया और मेरे चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से दबाते हुए चूसने लग गईं और एक ऊँगली मेरी गाण्ड के छेद में डालने लगीं।
मैं तो जैसे सपनों की दुनिया में पहुँच गया था।
माँ ज़ोर-ज़ोर से मेरा लंड चूस रही थीं और मैं भी लंड को उसके मुँह में अन्दर-बाहर कर रहा था।
तभी मैंने अपना कंट्रोल खो दिया और तेज ‘आह..’ करते हुए माँ के मुँह में ही झड़ने लगा।
माँ मेरे सुपारे को तब तक अपने मुँह में लिए रहीं.. जब तक मेरा वीर्य निकलना बंद नहीं हो गया।
हम दोनों कुछ देर तक वैसे ही बैठे रहे, फिर माँ मुझ से प्यार करते हुए बोलीं- तूने आख़िर अपनी मनमानी कर ही ली..।
तो मैं बोला- तुम्हें अच्छा लगा ना..। तो माँ हँसने लगीं और चाय बनाने लगीं।
चाय पीकर मैं रसोई से बाहर आ गया और माँ नंगी ही खाना बनाने लगीं।
फिर उसके बाद कुछ नहीं हुआ.. दोपहर में खाना खाते समय माँ मेरे लंड को देखते हुए बोलीं- अभी वीनू के आने का टाइम हो गया है.. अब तू लुँगी लपेट ले.. वरना वीनू को अटपटा लगेगा.. रात में सोते वक़्त पलंग पर फिर से लुँगी उतार कर नंगे सो जाना..
हम दोनों उस समय तक नंगे ही बैठे थे।
मैंने माँ से कहा- माँ कपड़े पहनने का मन नहीं कर रहा है.. अब तो घर में नंगा ही रहूँगा.. अब तो दीदी को भी नंगे ही रहने के लिए कहो..
“लेकिन कैसे..?” माँ बोलीं।
तो मैं बोला- मुझे नहीं पता.. पर अब मैं नंगा ही रहूँगा और तुम भी नंगी रहो।
माँ बोलीं- ठीक है.. पर अभी तो कुछ पहन लो।
फिर मैं लुँगी लपेट कर टीवी देखने लगा और माँ भी नाईटी पहन कर काम करने लगीं।
जब दोपहर में वीनू आई तो मुझे लुँगी में बैठे देख कर माँ से धीमी आवाज़ में बातें करने लगी और मैं मन ही मन उन दोनों को
एक ही बिस्तर पर चोदने का प्लान बना रहा था।
रात को मैं पूरा प्लान बना कर लुँगी उतार कर मा का इंतजार करने लगा। कुछ देर बाद माँ कमरे में आईं और दरवाजा बंद कर दिया।
फिर काम खत्म करने के बाद बिना लाइट ऑफ किए ही नंगी हो कर पलंग पर लेट गईं और मेरी तरफ करवट करके मुझसे पूछा- अब कैसा है..?
मैं तो पहले से ही तैयार था.. तुरंत बात को पकड़ते हुए पूछा- क्या वही..? माँ बोलीं- हाँ..
मैंने कहा- वही.. क्या इसका कोई नाम नहीं है.. क्या?
“अच्छा.. बड़ा चतुर हो गया है.. तुझे नहीं पता क्या..?” और हँसने लगीं।
मैं बोला- मुझे तो दोस्तों ने बताया है.. पर तुम सही नाम बताओ ना..।
“अच्छा पहले सुनूं तो.. तेरे दोस्तों ने क्या बताया है?”
मैंने कहा- लंड..
ये सुनते ही माँ की जोर से हँसी छूट गई।
मैं माँ की जाँघों को फैलाते हुए उनकी बुर की पुत्तियों को सहलाने लगा और पूछा- अच्छा ये बताओ.. ये जो तुम्हारी बुर से बाहर चमड़ा निकला है.. इसका क्या कहते हैं?
तो माँ बोलीं- तेरे दोस्त क्या कहते हैं?
तो मैंने कहा- छोड़ो ना दोस्तों को.. तुम बताओ इसे क्या कहते हैं।
तो माँ ने कहा- कुछ भी कह ले.. पत्ती.. पंखुड़ी.. तुझे जो भी अच्छा लगता हो।
तो मैंने कहा- हाँ.. अच्छा ये बताओ जब मैं तुम्हारी गाण्ड मे लंड डाल रहा था.. तो दर्द होते ही तुमने मुझे मना क्यों नहीं किया?
तो माँ ने कहा- मुझे भी गाण्ड मरवाने का मन कर रहा था।
मैंने आश्चर्य से पूछा- क्या..?
तो माँ ने कहा- हाँ.. मेरे गाँव में मेरे पड़ोस की चाची और उनकी लड़की जो एक दूर की रिश्तेदारी में मेरी चाची और चचेरी बहन लगती थीं.. उसने बताया कि शादी के बाद उन्हें चुदाई के बारे में ज़्यादा नहीं मालूम था और उसका पति उसकी गाण्ड में ही अपना लंड पेलता था.. बाद में मेरी चाची यानि उसकी माँ जो खुद भी बहुत चुदक्कड़ थी… उसने अपनी बेटी और दामाद को चुदाई के बारे में बताया। अब अक्सर वो सब साथ में चूत चुदाई और गाण्ड मरवाने का मज़ा लेते हैं। उसी ने मुझे गाण्ड में लंड लेने का तरीका और मज़े के बारे में बताया था। उसकी दो लड़कियाँ हैं जब तू बड़ा होगा.. तो मैं तेरी शादी उसी की बड़ी वाली लड़की से कराऊँगी.. फिर हम सब भी साथ में मज़े लेंगे.. अच्छा अब ये बता कि वीनू को कैसे पटाया जाए? अब तो मैं भी एक भी दिन बिना तेरे लंड के नहीं रह सकती हूँ। अब तो जब तक मेरी गाण्ड में तेरा लंड ना जाए.. मज़ा नहीं आएगा.. एक बार वीनू भी पट जाए तो फिर तो मैं दिन भर गाण्ड मरवाती और चुदवाती रहूँगी.. उसके बाद तू चाहे तो वीनू को भी चोद ले.. फिर उसे भी अपनी बुर हाथ से नहीं रगड़नी पड़ेगी।
तो मैं बोला- मैं जैसा कहता हूँ.. वैसा ही करती रहना.. वो अपने आप खुल जाएगी.. वैसे भी वो तुमसे खुल कर बात करती ही है ना.. चुदने भी लग जाएगी..
तो माँ ने कहा- हाँ.. हम ओपन तो हैं.. पर कभी चुदाई की बातें नहीं की हैं।
तो मैंने कहा- अच्छा कितना ओपन हो?
माँ मेरे लंड को सहलाते हुए बोलीं- पहले तो सिर्फ़ एमसी के समय पैड लगाने तक.. पर अब तो हम दोनों एक-दूसरे के सामने नंगे ही कपड़े बदल लेते हैं.. कभी-कभी मैं उससे बाल साफ़ करने वाली मशीन भी माँग लेती हूँ.. झांटों को साफ़ करने के लिए मैं बाथरूम में बुर पर मशीन नहीं लगा पाती हूँ और कमरे में लगाती हूँ.. तो वो मुझे ऐसा करते हुए कई बार देख चुकी है.. हम दोनों का एक-दूसरे की बुर देखना नॉर्मल है.. कई बार जब वो खेल कर आती है और थकी होती है.. तो मैं उसकी मालिश कर देती हूँ.. वो भी उसे नंगा करके.. उसकी जाँघों और चूतड़ों पर भी उस समय मेरे हाथ उसकी बुर और गाण्ड के छेद को भी छूते और मसलते हैं और वो भी कभी-कभी मुझे नंगा करके मेरी मालिश करती है.. हाँ.. कभी-कभी जब मालिश के समय मेरी बुर खुजलाती है तो उसी के सामने मैं बुर में ऊँगली करती थी.. तो उस समय उसने मुझे देखा है और मुझे ये भी पता है कि वो भी अपनी बुर में ऊँगली डाल कर झड़ती है.. पर इतना होने पर भी ना तो उसने कभी मुझे झाड़ा है और ना ही मैंने उसको.. बस हम दोनों को ये जानते हैं कि हम दोनों बुर में ऊँगली करते हैं पर चाची और बहन की तरह बुर या गाण्ड चटवाना या चुदाई की बातें नहीं की हैं।
तो मैंने कहा- इतना काफ़ी है।
और मैंने अपना सारा प्लान माँ को बता दिया।
अगले दिन सुबह प्लान के मुताबिक मैं लुँगी पहन कर बाहर गया तो देखा माँ और दीदी बातें कर रही थीं।
मुझे देख कर माँ ने दीदी से कहा- जा भाई के लिए चाय ले आ।
तो दीदी रसोई में चली गईं.. मैं माँ के सामने अपनी लुँगी थोड़ा फैला कर ऐसे बैठा कि दीदी को पता चल जाए कि मैं माँ को अपना लंड दिखा रहा हूँ.. पर दीदी को मेरा लंड ना दिखाई दे।
जैसे ही दीदी आईं तो मैंने माँ को इशारा करते हुए अपनी जाँघों को बंद कर लिया।
दीदी कभी मुझे और कभी माँ को देखतीं.. पर वो समझ गई थी कि माँ मेरा लंड देख रही थीं।
चाय पीने के बाद मैंने जानबूझ कर अपना लंड हाथ से पकड़ कर.. जिससे दीदी की जिज्ञासा बढ़ जाए.. माँ से कहा- मैं फ्रेश होने जा रहा हूँ..
तो माँ दीदी की तरफ देख कर बोलीं- हाँ.. चल मुझे भी पेशाब लगी है और बाथरूम में आकर मैं देख भी लूँगी..
फिर उसके बाद कुछ नहीं हुआ.. इस तरह 2-3 दिन बीत गए और हम लोग इसी तरह दीदी को उत्तेजित करते रहे। एक दिन दोपहर में खाना खाने के बाद प्लान के मुताबिक मैं कमरे में आकर लुँगी से अपना लंड बाहर निकाल कर सोने का नाटक करने लगा।
थोड़ी देर में माँ भी आ गईं और अलमारी खोल कर वहीं ज़मीन पर बैठ गईं और कपड़े सही करने लगीं। थोड़ी देर में दीदी कमरे में आईं और माँ के पास ही बैठ गईं और बातें करने लगीं।
तभी दीदी की नज़र मेरे खड़े लंड पर पड़ी तो वो चौंक कर माँ से बोली- माँ देखो.. भाई कैसे सो रहा है और उसके सूसू पे क्या हुआ है?
तो माँ ने मेरी तरफ देखते हुए कहा- हाँ.. उसकी सूसू में रगड़ लगने की वजह से छिल गया है.. मैंने ही क्रीम लगा कर खुला रखने को कहा है।
तो दीदी बोली- वहाँ पर कैसे रगड़ लग गई.. जो इतना छिल गया?
तो माँ हँसते हुए बोलीं- मुझे क्या पता..?
तो दीदी भी हँसते हुए बोली- अच्छा तो.. इसने ज़रूर वो ही किया होगा। माँ बोलीं- अच्छा.. तुझे कैसे पता.. तू भी वही करती है क्या?
तो दीदी हँसने लगीं.. । तभी दीदी की नज़र मेरे खड़े लंड पर पड़ी तो वो चौंक कर माँ से बोली- माँ देखो.. भाई कैसे सो रहा है और उसके सूसू पे क्या हुआ है?
तो माँ ने मेरी तरफ देखते हुए कहा- हाँ.. उसकी सूसू में रगड़ लगने की वजह से छिल गया है.. मैंने ही क्रीम लगा कर खुला रखने को कहा है।
तो दीदी बोली- वहाँ पर कैसे रगड़ लग गई.. जो इतना छिल गया?
तो माँ हँसते हुए बोलीं- मुझे क्या पता..?
तो दीदी भी हँसते हुए बोली- अच्छा तो.. इसने ज़रूर वो ही किया होगा। माँ बोलीं- अच्छा.. तुझे कैसे पता.. तू भी वही करती है क्या?
तो दीदी हँसने लगीं.. ।
तभी प्लान के मुताबिक माँ ने अपनी नाईटी हल्का सा खींच कर अपनी बुर खुजलाने लगीं और ऐसे बैठ गईं कि दीदी को उनकी बुर दिखाई दे।
माँ की बुर पर नज़र पड़ते ही दीदी बोलीं- माँ तुमने मेरी बाल साफ़ करने वाली क्रीम लगाई है क्या?
तो माँ बोलीं- तुझे कैसे पता?
दीदी ने कहा- तुम्हारी चिकनी बुर दिखाई दे रही है।
तो माँ झुक कर अपनी बुर देखने का बहाना करते हुए बोलीं- हाँ.. लगाई है.. उसमें ज़रा सी तो बची थी।
तो दीदी माँ की बुर की ओर इशारा करके हँसते हुए बोली- वो ज़रा सी थी..? मेरी पूरी क्रीम एक बार में खत्म कर दी.. अपनी बुर का साइज़ तो देखो.. इतनी बड़ी बुर है कि पूरी की पूरी एक बार में ही खत्म हो जाए और ऊपर से शीशे में देख कर फैला-फैला कर लगाती हो।
तो माँ भी हँसते हुए बोलीं- अच्छा तो सिर्फ़ मेरी ही बड़ी है.. तेरी तो इसी उम्र में इतनी फैल गई है.. जितनी मेरी तेरे पैदा होने के बाद फैली थी और तू तो रोज लगाती है.. तो खत्म नहीं होगी।
दीदी की चड्डी की ओर जो स्कर्ट से दिखाई पर रही थी.. इशारा करते हुए बोलीं।
तो दीदी ने कहा- नहीं.. मैंने नहीं लगाई है.. मैं ढूँढ रही थी.. पर मिली नहीं।
तो माँ ने कहा- मैं मान ही नहीं सकती।
अब दीदी भी मस्ती में भर कर अपनी चड्डी को साइड से हल्का सा खींच कर अपनी बुर माँ को दिखाते हुए बोली- नहीं लगाई.. ये देखो अभी मेरी बुर तुम्हारे जितनी चिकनी नहीं है.. 10-12 दिन हो गए है.. बाल साफ़ किए हुए।
ये सारी बातें सुन कर मेरा लंड पूरा 6-7 इंच का होकर तन गया और झटके लेने लगा।
तभी मुझे दीदी की आवाज़ सुनाई पड़ी, “वो देखो भाई का लंड कैसा हो गया है.. लग रहा है कि सपने में कुछ कर रहा है।”
तो माँ हँसने लगीं और कपड़े लेकर पलंग पर बैठ गईं तो दीदी भी साथ में पलंग पर आ गईं।
मैंने हाथ को अपने चेहरे पर इस तरह रखा था कि वो दोनों मुझे दिखाई दे रहे थे.. पर उन्हें मैं सोता हुआ लग रहा था।
मैंने देखा कि दीदी की निगाहें मेरे लंड पर टिकी हुई थीं.. तो मैं अपने लंड को और झटके देने की कोशिश करने लगा।
तभी माँ दीदी से बोलीं- ज़रा तौलिया देना.. और कहते हुए अपनी नाईटी को कमर तक उठाते हुए अपनी बुर खोल दी।
माँ दीदी को पूरी तरह गरम करना चाहती थीं और यही हमारा प्लान था। माँ खुद भी गरम हो गई थीं और उनकी बुर से पानी निकलने लगा था। शायद यही हाल दीदी का भी था.. तौलिया लेते ही माँ दीदी को दिखाते हुए अपनी बुर की पुत्तियों को हाथों से फैला कर पौंछने लगीं.. उसकी साँसें तेज़ चल रही थीं।
तभी दीदी ने माँ से कहा- माँ मुझे भी देना..।
तो माँ ने पूछा- क्यों तेरी बुर भी पानी छोड़ रही है क्या?
तो दीदी ने कहा- हाँ.. मेरी भी चड्डी गीली हो गई है।
माँ अपनी बुर पौंछने के बाद दीदी को तौलिया देते हुए बोलीं- तूने तो फालतू में ही चड्डी पहन रखी है.. उतार क्यों नहीं देती.. देख पूरी गीली हो गई है.. कोई बाहरी थोड़े ही है यहाँ पर.. और फिर तू तो मेरे सामने कई बार नंगी हो चुकी है।
तो दीदी मेरी ओर इशारा करने लगी। माँ बोलीं- ये बेचारा तो वैसे ही परेशान है और ये भी तो नंगा ही है और तुझसे छोटा ही है.. इससे कैसी शरम.. चल उतार दे.. गीली चड्डी नहीं पहनते।
ये कह कर माँ अपनी नाईटी उतारने लगीं।
ये देख कर दीदी भी जो अब तक मेरी वजह से शर्मा रही थी.. माँ का इशारा पाकर तुरंत अपनी टी-शर्ट.. स्कर्ट और चड्डी उतार कर नंगी हो गई।
दीदी की चूचियाँ माँ जितनी बड़ी तो नहीं थीं.. पर काफ़ी सुडौल थीं। उसकी बुर पर छोटे-छोटे बाल थे और बुर भी फूली हुई थी.. पर उसकी पुत्तियाँ माँ जितनी बड़ी नहीं थीं.. वहाँ पर हम तीनों ही नंगे थे।
पूरे पलंग पर बुर के पानी की खुश्बू फैल गई थी। तभी माँ ने मेरे लंड को हाथों में लेते हुए कहा- ज़रा देखूं तो अभी रगड़ सूखी या नहीं..।
वो मेरे सुपारे को घुमा कर चारों तरफ से देखने लगीं।
दीदी भी मेरी तरफ खिसक आई थी और उसकी भी साँसें माँ की तरह तेज़ चल रही थीं।
माँ ने जानबूझ कर दीदी की तरफ अपनी कमर करके जाँघों को पूरा खोल दिया.. जिससे उनकी बुर पूरी तरह खुल गई और उसकी पुत्तियाँ बाहर निकल कर लटक गईं।
माँ धीरे-धीरे मेरे सुपारे को सहला रही थीं.. दीदी मेरे सुपारे को बड़े ध्यान से देख रही थी और गरम हो गई थी। अब वो माँ के सामने ही अपनी बुर रगड़ने लगी।
ये देख कर माँ दीदी को चुदाई के लिए तैयार करने के लिए हँसते हुए बोलीं- क्या हुआ.. लग रहा है लंड देख कर तेरी बुर ज्यादा पानी छोड़ रही है.. अभी तेरी बुर का छेद छोटा है.. इतना मोटा सुपारा उसमे फँस जाएगा और तेरी बुर फट जाएगी.. कोई बात नहीं.. तू ऊँगली करके पानी निकाल दे।
ये सुन कर दीदी और गरम हो गई और एकदम खुल कर माँ से बोली- अच्छा.. तो क्या सिर्फ़ तुम्हारी बुर का छेद ही इसके साइज़ का है.. लंड दिख गया.. तो तुम्हारी बुर फड़कने लगी नहीं.. तो हमेशा ऊँगली करती रहती थीं और मेरी चूत का छेद इतना भी छोटा नहीं है.. ये देखो..।
और ये कह कर अपनी बुर को हाथों से फैला कर माँ को अपना लाल-लाल छेद दिखाने लगी और वो दोनों हँसने लगे।
हम सब इतने उत्तेजित थे कि किसी को कुछ भी होश नहीं था।
सिर्फ़ लंड और बुर दिखाई दे रहा था। तभी मैंने सही समय सोच कर उठने का नाटक करते हुए अपनी आँखें खोल दीं और उठने का नाटक करते हुए बैठ गया।
मेरे उठते ही माँ ने पूछा- अरे उठ गया बेटा.. अब दर्द तो नहीं हो रहा है। मैंने कहा- नहीं.. पर मुझे पेशाब लगी है।
और ये कह कर बिना दीदी की तरफ देखे.. बाथरूम जाने लगा।
तो माँ बोलीं- मुझे भी पेशाब लगी है.. रुक मैं भी चलती हूँ।
वो मेरे साथ आ गईं.. बाथरूम पहुँच कर हम दोनों साथ-साथ मूतने लगे।
माँ की बुर से तेज़ सीटियों जैसी आवाज़ निकल रही थी।
हम अभी शुरू ही हुए थे कि दीदी भी आ गईं।
उसे देख कर माँ ने पूछा- क्या हुआ? तो दीदी ने कहा- मुझे भी पेशाब लगी है।
तो माँ ने हँसते हुए कहा- अच्छा बैठ जा.. लगता है तेरी बुर लंड के लिए ज्यादा खुजली मचा रही है।
वो हम दोनों के सामने ही बैठ गई.. बैठने पर उसकी जाँघें फैल गईं.. जिससे उसकी बुर की फाँकें पूरा फैल गईं और बुर के लाल-लाल छेद से निकलते हुए पेशाब की धार को देख कर मेरा लंड और तन गया।
दीदी भी मेरे लंड से पेशाब की धार निकलते हुए बड़े ध्यान से देख रही थी।
तो माँ ने मौका देख कर मुझसे पूछा- अब सुपारे पर पेशाब लगने से कल की तरह जलन तो नहीं हो रही है?
तो मैंने कहा- नहीं..।
तब तक माँ पेशाब कर चुकी थीं और मैं भी और दीदी के मूतने का इन्तजार करने लगे।
जब दीदी मूत कर खड़ी हुईं तो हम सब कमरे में आ गए।
मेरा लंड अभी भी एकदम खड़ा था।
माँ पलंग पर टेक लगा कर बैठ गईं और मुझे अपने पास बैठा लिया।
दीदी भी हम दोनों के सामने बैठ गई। फिर माँ मेरे सुपारे को हाथ में लेकर बोलीं- ठीक है.. अब कुछ दिन तक रगड़ना-वगड़ना नहीं.. लंड खड़ा होता है तो कोई बात नहीं… थोड़ी देर लंड को सहलाएगा तो ठीक हो जाएगा..। “लेकिन माँ ज्यादा तनने के कारण मेरे लंड में अब बहुत खुजली हो रही है।” मैंने लंड माँ की तरफ बढ़ाते हुए कहा।
तो माँ बोलीं- ठीक है.. मैं इसका पानी झाड़ देती हूँ.. फिर ये थोड़ा नरम हो जाएगा.. नहीं तो चमड़ा खिंचने से और दर्द होगा।
मैंने कहा- क्या.. अभी तो माँ मेरे चूतड़ पर हाथ रख कर अपनी तरफ करते हुए लंड को दूसरे हाथ में लेकर बोलीं- तो क्या हुआ.. मेरे सामने कैसी शरम और अब तो दीदी के सामने भी शरमाने की कोई ज़रूरत नहीं है। दीदी भी हम दोनों के सामने बैठ गई। फिर माँ मेरे सुपारे को हाथ में लेकर बोलीं- ठीक है.. अब कुछ दिन तक रगड़ना-वगड़ना नहीं.. लंड खड़ा होता है तो कोई बात नहीं… थोड़ी देर लंड को सहलाएगा तो ठीक हो जाएगा..। “लेकिन माँ ज्यादा तनने के कारण मेरे लंड में अब बहुत खुजली हो रही है।” मैंने लंड माँ की तरफ बढ़ाते हुए कहा।
तो माँ बोलीं- ठीक है.. मैं इसका पानी झाड़ देती हूँ.. फिर ये थोड़ा नरम हो जाएगा.. नहीं तो चमड़ा खिंचने से और दर्द होगा।
मैंने कहा- क्या.. अभी तो माँ मेरे चूतड़ पर हाथ रख कर अपनी तरफ करते हुए लंड को दूसरे हाथ में लेकर बोलीं- तो क्या हुआ.. मेरे सामने कैसी शरम और अब तो दीदी के सामने भी शरमाने की कोई ज़रूरत नहीं है।
ये बात माँ ने उत्तेजित होकर मुझे दीदी की बुर दिखाते हुए कहा- ये देख वीनू की बुर का छेद तो लंड लेने के लिए खुद ही खुला हुआ है..।
फिर मैं पलंग पर लेट गया.. माँ मेरे कमर के पास बैठी थीं और मेरा सर दीदी की जांघों के पास था.. जिससे दीदी की बुर की फैली हुई फांकें अब मुझे एकदम नज़दीक से दिखाई दे रही थीं।
माँ दीदी से बोलीं- ज़रा गरी का तेल देना।
दीदी ने तेल दिया।
फिर माँ ने तेल हाथ में लगा कर मेरे सुपारे पर लगाया और मेरे लवड़े की मुठ मारने लगीं और मैं अपने एक हाथ से माँ की बुर के छेद में धीरे-धीरे ऊँगली करने लगा।
माँ और दीदी बहुत ज़्यादा उत्तेजित थीं जिससे उनकी बुर और गाण्ड का छेद खुल और बंद हो रहा था।
तभी दीदी अपनी बुर में अपनी ऊँगलियाँ डालते हुए माँ से बोली- माँ हाथ से ऐसे पकड़ कर करोगी तो लंड में फिर घाव हो जाएगा।
माँ भी सर हिलाते हुए बोलीं- हाँ.. तू सही कह रही है.. पर क्या करूँ इसको झाड़ना तो पड़ेगा ना..।
तो दीदी जो एकदम गरम हो गई थी.. अपनी बुर दिखाते हुए माँ को इशारा करके बोली- ऐसे करो ना..।
तो माँ अपनी बुर को फैलाते हुए बोलीं- हाँ.. तू सही कह रही.. मैं इसके लंड पर बैठ कर इसका लंड अपनी बुर में डाल लेती हूँ और ऊपर-नीचे करती हूँ.. मेरी बुर में लंड जाते ही झड़ जाएगा.. पर चुदाई में मेरी इन बड़ी-बड़ी पुत्तियों से रगड़ कर कहीं फिर से छिल ना जाए?
एक काम करती हूँ.. इसका सुपारा मुँह में लेकर हल्के-हल्के से चूस कर झाड़ देती हूँ।
ये कह कर तुरंत अपने चूतड़ दीदी की तरफ उठाते हुए मेरे लंड पर झुक गईं और लंड चूसने लगीं।
लेकिन मैंने अपनी ऊँगली माँ की बुर से नहीं निकाली और दूसरे हाथ से बुर की पुत्तियों को फैलाते हुए और तेज़ी से अन्दर-बाहर करने लगा।
तभी ये देख कर दीदी ने भी अपना कंट्रोल शायद खो दिया और झुक कर माँ के चूतड़ों को अपने हाथों से फैला कर माँ की चूतड़.. गाण्ड और बुर का छेद चाटने लगी।
जैसे ही दीदी ने माँ की 4 इंच लंबी और 2 इंच चौड़ी पुत्तियों को अपने मुँह ले लिया।
माँ ने भी अपनी जाँघों को और फैला दिया और उसके मुँह पर अपनी बुर को दबाते हुए मेरे लौड़े को चूसने लगीं।
मैं भी इसी इंतजार में था और अपनी ऊँगलियाँ माँ की बुर से निकाल कर दीदी के चूतड़ जो मेरी तरफ थे, अपने हाथ से फैला कर उसकी गाण्ड और बुर में ऊँगली डाल कर चोदने लगा।
दीदी भी अपने चूतड़ उछाल-उछाल कर अपनी बुर में ऊँगली डलवा रही थी कि मेरे दिमाग़ में एक आइडिया आया और मैंने माँ से कहा- माँ एक काम करो.. तुम थोड़ा सा आगे बढ़ जाओ.. जिससे दीदी मेरे और तुम्हारे बीच में आ जाएगी.. फिर तुम मेरे लंड को चूसना.. दीदी तुम्हारी बुर चाटेगी और मैं दीदी की बुर चाटूंगा।
तो माँ और दीदी तुरंत उसी तरह लेट गईं और फिर हम तीनों एक-दूसरे की बुर और गाण्ड चाटने लगे।
मैंने अपनी एक ऊँगली दीदी की गाण्ड में थूक लगा कर डाल दीं और उसकी बुर को मुँह में भर लिया।
कुछ ही देर में मैं अपना लंड माँ के मुँह में और अन्दर घुसाते हुए दीदी की बुर को पूरा मुँह भर कर चाटते हुए झड़ गया।
माँ दीदी को दिखाते हुए मेरे पूरे वीर्य को जीभ से चाट कर पीने लगीं।
जब उसने मेरा लंड पूरा सुखा दिया.. तो सीधी होकर आराम से लेट गईं और दीदी से अपनी बुर चटवाने लगीं और फिर झड़ कर शांत हो गईं।
इधर मैंने भी दीदी की बुर चाट कर उसे झाड़ दिया था।
थोड़ी देर लेटे रहने के बाद हम तीनों उठ कर बैठ गए।
मेरा लंड उस समय सिकुड़ा हुआ था तो दीदी माँ को मेरा लंड दिखाते हुए बोली- अरे वाहह.. माँ तुम्हारा ये चूसने वाला तरीका तो ज्यादा बढ़िया था.. भाई को झाड़ भी दिया और लंड पर भी कुछ नहीं हुआ।
माँ बोलीं- हाँ.. पर तूने तो आज कमाल कर दिया.. ओह क्या बुर चाटी है..।
तो दीदी बोली- हाँ.. माँ मुझे भी अच्छा लगा।
माँ बोलीं- चल अच्छा है.. अब जब इसका लंड थोड़ा ठीक हो जाए.. तो तुझे भी इसे अपनी बुर में लेने में
मज़ा आएगा.. तब तक अपना छेद फैला ले।
ये कह कर माँ ने मुझे आँख मारी.. तो हम तीनों हँसने लगे और हम लोग इसी तरह थोड़ी देर तक आपस में हँसी-मज़ाक करते रहे और चाय पी.. पर दीदी की बुर देख-देख कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और झटके लेने लगा.. तो मैं अपना लंड हाथ में लेकर दीदी और माँ को दिखाते हुए धीमे-धीमे मुठ मारने लगा।
ये देख कर दीदी माँ से बोली- माँ देखो भाई का लंड फिर से फूल गया है.. लगता है इसका फिर से झड़ने का मान कर रहा है।
तो माँ बोलीं- मैं तो अब थक गई.. हाँ.. तुम दोनों को जो करना है.. करो मैं सिर्फ़ लेट कर देखूँगी।
ये कह कर माँ लेट गईं.. उसकी कमर मेरी तरफ थी और जाँघें फैली हुई थीं जिससे उसकी मेरी दोनों हथेलियों जितनी बड़ी और चिकनी बुर एकदम खुल गई थी और उसकी लंबी और चौड़ी पुत्तियाँ बाहर निकल कर लटकी हुई थीं।
ये देख कर मैं अपने एक हाथ से उन्हें मसलने लगा… ये देख कर दीदी जो बड़ी ललचाई नज़रों से मेरे लंड को देख रही थीं.. झुक कर मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया।
ओह क्या मस्त लग रहा था.. दीदी गपागप मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसे जा रही थी.. और मैं भी अपनी ऊँगलियां माँ की बुर में तेज़ी से अन्दर-बाहर करने लगा।
माँ भी धीरे-धीरे अपनी कमर ऊपर उछाल कर चुदवा रही थीं और खूब ज़ोर से हिलते हुए झड़ गईं।
तभी मैं अपना लंड दीदी के मुँह में अन्दर तक घुसड़ेते हुए झड़ गया।
दीदी भी मेरे लंड का पानी पूरा चाट गई.. फिर हम सब थक कर सो गए। अब ये हमारे घर का नियम बन गया था और हम तीनों जन हर काम साथ-साथ करते.. बाथरूम साथ जाते.. कोई लेट्रीन करता.. कोई मंजन करता.. कोई नहाता.. कभी-कभी हम सब एक-दूसरे को अपने हाथों से ये काम करवाते। मंजन करते और नहलाते और जब मौका मिलता अपनी बुर और लंड एक-दूसरे में घुसाए रहते।
तो दोस्तों ये थी हमारे घर की सच्चाई।